एफडी में कैसे निवेश करें?

बैंक की फिक्स्ड डिपॉजिट योजना मुनाफा कमाने का सबसे अच्छा तरीका है। फिक्स्ड डिपॉजिट सात दिन से लेकर 10 साल तक की अवधि के लिए किया जा सकता है। फिक्स्ड डिपॉजिट पर बचत खाते के मुकाबले लगभग दोगुना ब्याज मिलता है। इस कारण फिक्स्ड डिपॉजिट छोटी और लंबी, दोनों अवधि के निवेशकों के लिए एक बेहतरीन विकल्प है। बीते कुछ वक्त में निवेशकों के बीच फिक्स्ड डिपॉजिट की लोकप्रियता बढ़ी है। इसका कारण फिक्स्ड डिपॉजिट में पूंजी की सुरक्षा और निश्चित रिटर्न है। हर बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट की सुविधा देता है। इसके अलावा कई गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (एनबीएफसी) भी ग्राहकों को फिक्स्ड डिपॉजिट की सुविधा देती हैं।

Read more
Best Investment Plans
  • Save upto ₹46,800 in tax under Sec 80C

  • Inbuilt Life Cover

  • Tax Free Returns Unlike FD

*All savings are provided by the insurer as per the IRDAI approved insurance plan. Standard T&C Apply

Buy Online & Get upto 4% extra#

Your Money is Safe, Secure & Guaranteed

Get higher Returns than Fixed Deposit along with Tax Benefits

+91
View Plans
Please wait. We Are Processing..
Plans available only for people of Indian origin By clicking on "View Plans" you agree to our Privacy Policy and Terms of use #For a 55 year on investment of 20Lacs #Discount offered by insurance company Tax benefit is subject to changes in tax laws
Get Updates on WhatsApp

बैंक की तुलना में एनबीएफसी ग्राहकों को फिक्स्ड डिपॉजिट पर ज्यादा ब्याज देती हैं, लेकिन एनबीएफसी में एफडी बैंक की एफडी के अपेक्षाकृत कम सुरक्षित मानी जाती है। बैंक के एफडी को ज्यादा सुरक्षित माना जाता है। 

फिक्स्ड डिपॉजिट से मिलने वाला वास्तविक रिटर्न क्या है?

फिक्स्ड डिपॉजिट पर बैंक या एनबीएफसी कंपनियां जो ब्याज देती हैं, वह ग्राहक को मिला वास्तविक रिटर्न होता है। ग्राहक अपनी जरूरत और बैंक द्वारा दिए जा रहे ब्याज का हिसाब लगाकर फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश कर सकते हैं। 

साथ ही फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलने वाले ब्याज की निकासी की अवधि भी तय की जा सकती है। फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज हर महीने, तिमाही, छमाही, सालाना या एफडी मैच्योर होने के बाद चाहिए, यह निवेश करते वक्त चुना जा सकता है। 

फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश करते वक्त सिर्फ ब्याज दरों के बारे में ही बल्कि तरलता यानी लिक्विडिटी का भी ध्यान रखने की जरूरत है। जिस समय रकम की जरूरत है, उस समय फिक्स्ड डिपॉजिट को निकालने में दिक्कत नहीं हो। 

फिक्स्ड डिपॉजिट में ज्यादा से ज्यादा ब्याज कमाने के लिए जरूरी है कि सही वक्त का ध्यान रखा जाए। सही वक्त से मतलब सिर्फ फिक्स्ड डिपॉजिट की अवधि से नहीं है, बल्कि अलग-अलग मैच्योरिटी अवधि में रिटर्न की सही गणना करना है, जिसके जरिए ज्यादा से ज्यादा ब्याज कमाने में कामयाब हो सकते हैं। 

फिक्स्ड डिपॉजिट से कैसे बेहतर कमाया जाए?

फिक्स्ड डिपॉजिट में लंबी अवधि में बेहतर रिटर्न कमाने के लिए एक तरीका अपनाया जा सकता है। फिक्स्ड डिपॉजिट असल में लंबी अवधि के लिए किया जाए तो बेहतर है। असल में बैंक कई तरह के चार्ज लगाकर यह सुनिश्चित करते हैं कि ग्राहक ने जिस अवधि के लिए फिक्स्ड डिपॉजिट किया है, उस अवधि से पहले रकम की निकासी नहीं करें। 

फिक्स्ड डिपॉजिट से ज्यादा रिटर्न कमाने का एक तरीका यह है कि अपने निवेश को कई हिस्से में बांटकर उसे अलग-अलग मैच्योरिटी अवधि के हिसाब से निवेश करें। इस प्रक्रिया को लैडरिंग (laddering) कहते हैं। 

क्या है लैडरिंग?

लैडरिंग सुविधा का मतलब है कि एक नियमित अंतराल पर फिक्स्ड डिपॉजिट मैच्योर होती रहेगी,  और इससे मिलने वाला मुनाफा बढ़ जायेगा। 

इसे एक उदाहरण के जरिए समझते हैं। माना कि पांच लाख रुपये फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश करना है। इस पर 9 फीसदी सालाना ब्याज दिया जा रहा है। तब आप एक लाख रुपये का निवेश एक साल के लिए कीजिए। अब बची रकम में से एक लाख रुपये का निवेश दो साल के लिए करें। बची रकम में से एक लाख रुपये के निवेश तीन साल के लिए, फिर एक लाख का निवेश चार साल के लिए और आखिरी बचे एक लाख रुपये का फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश पांच साल के लिए करें। 

इस प्रक्रिया का अर्थ यह हुआ है कि आपने पांच लाख रुपये को पांच हिस्से में बांटकर उसे पांच अलग-अवधि के फिक्स्ड डिपॉजिट में जमा किया है। 

एक साल बाद जब फिक्स्ड डिपॉजिट मैच्योर होगी, तब आपको कुल 1.09 लाख रुपये की धनराशि वापस मिलेगी। अगर इस धनराशि को फिर से पांच साल के फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश कर दिया जाए तो संभावना है कि इस वक्त बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट पर 10% ब्याज ऑफर करें। 

इसी तरह, दूसरी वाली एफडी जो दो साल बाद मैच्योर होने वाली है, उसे अवधि पूरा होने के बाद अगले पांच के लिए फिर से निवेश करें। 

इसका फायदा यह है कि अगर ब्याज दर में बढ़ोतरी होती है, तो आपको हमेशा उसका फायदा मिलता रहेगा। 

फिक्स्ड डिपॉजिट में लैडरिंग के क्या हैं फायदे?

फिक्स्ड डिपॉजिट में अलग-अलग अवधि के लिए अलग धनराशि को निवेश करना (लैडरिंग) के कारण सिर्फ वक्त पर रकम पाने में ही मदद नहीं मिलती है, निवेश के इस तरीके से बाकी सभी चीजें भी नियंत्रण में रहती हैं। 

वक्त से पहले एफडी तोड़ने पर नुकसान 

  • फिक्स्ड डिपॉजिट में लैडरिंग की मदद से नियमित अंतराल पर धनराशि निकालते रहते हैं।  इस कंडीशन में जरूरत के वक्त धनराशि वापस मिल जाती है। इसमें फिक्स्ड डिपॉजिट करने पर तय अवधि से पहले अगर धनराशि निकाल ली जाए तो नुकसान हो सकता है। 

  • अगर कोई धनराशि को पांच साल के लिए फिक्स्ड डिपॉजिट किया है और उसे चार साल में ही निकालना चाहते हैं तो बैंक जुर्माना लगाती है। 

  • लैडरिंग कर हर साल धनराशि का एक हिस्सा निकाल सकते हैं, क्योंकि इसमें इसमें फिक्स्ड डिपॉजिट इसी वक्त के लिए की है। 

  • इसका एक और बड़ा फायदा यह है कि बाजार में उस दौर में उपलब्ध ब्याज दरों का फायदा आसानी से उठा सकेंगे। 

तरलता (लिक्विडिटी)

अगर लैडर डिपॉजिट किया है तो आपके पास हर साल एक बार धनराशि आपके हाथ में होगी। अगर आप चाहें तो इसे छह महीने या तीन महीने के अंतराल पर भी फिक्स्ड डिपॉजिट कर सकते हैं। 

शुरुआत में हो सकता है कि आपको लैडरिंग फिक्स्ड डिपॉजिट का फायदा समझ नहीं आए। लेकिन जब लगातार इसे जारी रखेंगे और हिसाब निकालेंगे तो इसका फायदा दिखाई देगा । 

इस बात का ध्यान रखें

  • लैडरिंग फिक्स्ड डिपॉजिट एक अच्छा विकल्प है लेकिन बेहतरीन रिटर्न कमाने के मामले में ये हमेशा बेहतर विकल्प साबित नहीं होता। इस का कारण ब्याज दरों में कमजोरी का माहौल है, अगर ऐसा है तो ब्याज कम मिलने की संभावना होती है। 

  • अगर लैडरिंग फिक्स्ड डिपॉजिट में 10 साल की अवधि के लिहाज से बात की जाए तो लैडरिंग एफडी लिए बेहतर ब्याज कमाने में मददगार साबित हो सकती है। 

किसके लिए है बेहतर?

  • रिटायर्ड कर्मचारी जिन्हें रोज के खर्च के लिए फिक्स्ड डिपॉजिट पर निर्भर रहना पड़ता है। 

  • लंबी अवधि के लिए एफडी करने वाले निवेशक जो ब्याज दरों की अनिश्चितता के माहौल से जूझ रहे हैं। 

  • इसमें छोटी अवधि के लिए भी निवेश करना बेहतर है, जो वित्तीय लक्ष्य (छुट्टियों पर जाने, घर खरीदारी के लिए डाउन पेमेंट) के हिसाब से निवेश कर सकते हैं।

Written By: PolicyBazaar - Updated: 18 February 2022
FD Calculator

Total Investment

₹500 ₹10L
Enter Total Investment

Rate of Interest (Yearly)

1% 10%
Rate of Interest (Yearly)

Time Period

1 Year 10 Years
Enter Time Period
Interest Earned
Maturity Amount
Get Higher Return

FD Rates articles

Recent Articles
Popular Articles
Tax Saver FD Premature Withdrawal

21 Jun 2022

Tax Saver Fixed Deposit is a type of fixed deposit scheme. The...
Read more
Axis Bank FD Premature Withdrawal

15 Jun 2022

Axis Bank offers a bouquet of fixed deposit products, which you...
Read more
ICICI FD Premature Withdrawal Penalty Calculator

14 Jun 2022

ICICI offers various fixed deposit schemes which are highly...
Read more
Fixed Deposit Monthly Income Scheme

02 Jun 2022

The monthly income scheme of Fixed Deposit has gained popularity...
Read more
30 Lakhs Fixed Deposit Interest Per Month

04 Apr 2022

If you are planning to invest Rs 30 lakhs in a Fixed Deposit...
Read more
Application for Withdrawal of Fixed Deposit
Fixed Deposits are the safest investment instruments. You invest the amount of your choice as the fixed deposit...
Read more
SBI Fixed Deposit Double Scheme
The SBI Fixed Deposit Double Scheme is named Special Term Deposit to cater to investors looking to double their...
Read more
Bank of Baroda FD Rates for Senior Citizens
Bank of Baroda offers a range of FD schemes to its customers. The interest rate offered under these schemes is...
Read more
How to Claim Fixed Deposit After Death?
Fixed Deposits, FD for short, continue to be the favored and safest investment vehicle for countless Indians....
Read more
Fixed Deposit Interest Rates for Senior Citizens in Post Office
Post Offices have penetrated India’s remotest corners providing banking services apart from their postal...
Read more
top
Close
Download the Policybazaar app
to manage all your insurance needs.
INSTALL