LIC प्रीमियम भुगतान की ग्रेस अवधि

यदि आप भी देय तारीख के भीतर एलआईसी प्रीमियम का भुगतान करने  से चूक गए हैं, तो चिंता न करें। ऐसा इसलिए क्योंकि एलआईसी एलआईसी प्रीमियम भुगतान के लिए एक ग्रेस पीरियड प्रदान करता है जिसके दौरान आप अपनी एलआईसी पॉलिसी के प्रीमियम का भुगतान उस पर ब्याज का भुगतान किए बिना कर सकते हैं।

Read more
Best Investment Options
  • Save upto ₹46,800 in tax under Sec 80C

  • Inbuilt Life Cover

  • Tax Free Returns Unlike FD

*All savings are provided by the insurer as per the IRDAI approved insurance plan. Standard T&C Apply

Get Guaranteed returns along with life cover
invest in 100% Guaranteed Return Plans Tax benefits under sec 80C & No Tax on returns*
+91
View Plans
Please wait. We Are Processing..
Plans available only for people of Indian origin By clicking on "View Plans", you agree to our Privacy Policy and Terms of Use #For a 55 year on investment of 20Lacs #Discount offered by insurance company Tax benefit is subject to changes in tax laws
Get Updates on WhatsApp

आइये ग्रेस पीरियड को विस्तार से समझते हैं:   

ग्रेस पीरियड क्या है?

मूल रूप से, जीवन बीमा के प्रोडक्ट

LIC प्रीमियम भुगतान की ग्रेस अवधि

यदि आप भी देय तारीख के भीतर एलआईसी प्रीमियम के भुगतान से चूक गए हैं, तो चिंता न करें। ऐसा इसलिए है क्योंकि एलआईसी एलआईसी प्रीमियम भुगतान के लिए एक ग्रेस पीरियड प्रदान करता है जिसके दौरान आप अपनी एलआईसी पॉलिसी के प्रीमियम का भुगतान उस पर ब्याज का भुगतान किए बिना कर सकते हैं। आइये ग्रेस पीरियड को विस्तार से समझते हैं:   

ग्रेस पीरियड क्या है?

मूल रूप से, जीवन बीमा के प्रोडक्ट लंबी अवधि के लिए हैं और भारत का एलआईसी उनके लिए प्रीमियम भुगतान के दो तरीके प्रदान करता है। एक है- अपफ्रंट पेमेंट, जिसे सिंगल प्रीमियम पेमेंट कहा जाता है। दूसरा है - वार्षिक भुगतान, जिसे नियमित प्रीमियम भुगतान कहा जाता है। जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, ये पॉलिसियाँ प्रकृति में दीर्घकालिक हैं; इसलिए आपमें से अधिकांश नियमित प्रीमियम भुगतान योजना खरीदते हैं। हालांकि, नियमित प्रीमियम भुगतान पॉलिसी  सीमित भुगतान प्रकार में आती है।

सीमित प्रीमियम भुगतान वर्जन के अनुसार, आपको पॉलिसी अवधि के दौरान प्रीमियम का भुगतान नहीं करना होगा। इसके स्थान पर, आप केवल पॉलिसी अवधि के सीमित वर्षों के लिए ही प्रीमियम का भुगतान करते हैं।

नियमित प्रीमियम भुगतान पॉलिसी के अनुसार, जो वार्षिक प्रीमियम भुगतान से इतर है,  इंश्योरेंस प्रोवाइडर हाफ़ ईयरली, क्वार्टरली या मंथली भुगतान की छोटी किश्तों की अनुमति दे सकता है ।

वार्षिक प्रीमियम भुगतान के लिए, आपको पॉलिसी के रिन्युअल की डेट पर प्रीमियम का भुगतान करना होगा। पॉलिसी की  रिन्युअल की तारीख़पिछले वर्ष के प्रीमियम भुगतान की तारीख के ठीक एक वर्ष बाद है। हालांकि, प्रीमियम भुगतान को आसान बनाने के लिए, LIC जैसी बीमा कंपनी नवीकरण प्रीमियम का भुगतान करने के लिए 30 दिनों की छूट अवधि की अनुमति देती है। लेकिन, अगर आपने हर महीने प्रीमियम भुगतान का तरीका चुना है, तो एलआईसी प्रीमियम भुगतान के लिए छूट की अवधि 15 दिन है। इसे स्पष्ट रूप से समझने के लिए, हम निम्नलिखित बिंदुओं में एक विस्तृत विवरण प्रदान कर रहे हैं:

जब प्रीमियम भुगतान मोड अर्धवार्षिक, वार्षिक या त्रैमासिक होता है, तो 15 दिनों की ग्रेस पीरियड भारत के एलआईसी द्वारा दी जाती है।

जब प्रीमियम भुगतान मोड मंथलीहोता है, तो एलआईसी प्रीमियम भुगतान के लिए ग्रेस पीरियड 30 दिन होती है।

जब पॉलिसी के उल्लेखित ग्रेस अवधि  के भीतर भी प्रीमियम का भुगतान नहीं किया जाता है तो पॉलिसी लैप्स हो जाती है।

यदि आपकी पॉलिसी की ग्रेस अवधि किसी सार्वजनिक अवकाश या रविवार को समाप्त हो जाती है, तो आप अपनी पॉलिसी को लागू रखने के लिए अगले वर्किंग डे पर प्रीमियम का भुगतान कर सकते हैं।

यदि आपकी पॉलिसी 3 साल  है और आपने इसके बाद के प्रीमियमों का भुगतान नहीं किया है, तो पॉलिसी शून्य नहीं होगी, बल्कि  सम एशोयर्ड  को मूल  के बराबर अनुपात में घटा दिया जाता है, आपने जो प्रीमियम भुगतान किया है। (संख्या में) के अनुपात में जो  कुल प्रीमियम (संख्या में)  देय हैं।

यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (ULIP) के शुरुआती पांच वर्षों में या ULIP के लॉक-इन पीरियड के दौरान, इन 75 दिनों के बाद यह ग्रेस अवधि पचहत्तर दिन तक बढ़ जाती है और इन 75 दिनों के बाद धन को किसी डिस्काउंटेड  फंड में डाल दिया जाता है। डिस्काउंटेड  फंड इसे , लॉक-इन अवधि पूरी होने के बाद पॉलिसीधारक (आप) को भुगतान किए जाने तक धन रखा जाता है।

टर्म इंश्योरेंस जल्दी क्यों खरीदें?

आपका प्रीमियम उस उम्र पर तय किया जाता है जिस पर आप पॉलिसी खरीदते हैं और यह आपके जीवन भर बदलता नहीं है

आपके जन्मदिन के बाद हर साल प्रीमियम 4-8% के बीच बढ़ सकता है

यदि आप एक जीवन शैली की बीमारी से ग्रसित हो जाते हैं तो आपके पॉलिसी आवेदन को  अस्वीकार कर दिया जा सकता है या फिर इसके प्रीमियम में 50-100% की वृद्धि हो सकती है

देखें कि आयु बीमा प्रीमियम को कैसे प्रभावित करती है

देखें कि आयु बीमा प्रीमियम को कैसे प्रभावित करती है

प्रीमियम / 479 / महीना

उम्र 25

आयु 50

आज खरीदें और की बचत करें

योजनाएं देखें

ग्रेस पीरियड से जुड़े तथ्य

एलआईसी पॉलिसी की ग्रेस अवधि से जुड़े कुछ तथ्य जो आपको मालूम होने चाहिए:

नियत तारीख़  पर प्रीमियम न दिए जाने पर भी सम एश्योर्ड बदलता नहीं है: एलआईसी प्रीमियम भुगतान के लिए ग्रेस पीरियड  आपके प्रीमियम पेमेंट मोड में आपको दिया गया कुछ अतिरिक्त समय ही  है। यही कारण है कि, आपकी पॉलिसी के लिएसम एश्योर्ड में बदलाव नहीं होता है क्योंकि आपको ग्रेस  अवधि के दौरान अपने प्रीमियम का भुगतान करने के लिए दंडित नहीं किया जाता है।

ग्रेस पीरियड सभी पॉलिसियों के लिए समान नहीं है : ग्रेस पीरियड सभी एलआईसी पॉलिसियों के लिए यूनिवर्सल नहीं है। यह आपके द्वारा चुने गए प्रीमियम भुगतान मोड के अनुसार बदलता है। मंथलीप्रीमियम भुगतान मोड के लिए, यह 15 दिन है, जबकि, ईयरली हाफ़ ईयरली या क्वार्टरली  -प्रीमियम भुगतान मोड के लिए, यह 30 दिन है। LIC जैसे  इंश्योरेंस प्रोवाइडर आपके प्रीमियम भुगतान की निर्धारित तिथि से पहले और आपके ग्रेस पीरियड में प्रवेश करने पर, आपको सूचित करते हैं।

यहाँ कुछ कटौती हो सकती है: पॉलिसीधारक के द्वारा पॉलिसी का भुगतान किए जाने के  पहले ही ग्रेस पीरियड के अंदर पॉलिसीधारक की मृत्यु के मामले में इंश्योरर,डेथ बेनिफिट से प्रीमियम मूल्य काट कर कम कर देता है। यहां यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि इस पॉलिसी को जारी रखने के लिए इंशोयर्ड द्वारा भुगतान किया गया मूल्य अतिरिक्त मूल्य नहीं है क्योंकि पॉलिसी को जारी रखने के लिए इसका भुगतान तो  इंशोयर्ड व्यक्ति को करना ही था ।

कैंसिलेशन में ग्रेस पीरियड नहीं है : यदि आप अपने इंश्योरर  को बदलना चाहते हैं, तो यह सुझाव दिया जाता है कि  नई पॉलिसी पूरी तरह से लागू  होने तक,   अपने पिछले इंश्योरेंस प्लान को रद्द(कैंसल) न करें। ऐसा इसलिए है क्योंकि; यदि पॉलिसी रद्द होने के एक दिन बाद भी कुछ दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति होती है, तो कोई मुआवजा प्राप्त नहीं होगा। सबसे अच्छा तरीका यह है कि अपनी पुरानी पॉलिसी को एलआईसी प्रीमियम भुगतान के लिए एक ग्रेस पीरियड में तब तक रखें जब तक कि आपकी नई पॉलिसी लागू नहीं हो जाती ।

ग्रेस पीरियड के दौरान दावे किए जा सकते हैं: यदि आपकी मृत्यु  अपनी पॉलिसी के ग्रेस पीरियड में होती है, तो आप डेथ बेनेफ़िट  प्राप्त करने के लिए पात्र हैं। रेगुलर केस की तरह, आपकी पॉलिसी के नामित व्यक्ति को डेथ बेनेफ़िट प्राप्त करने के लिए सभी संबंधित दस्तावेज उपलब्ध कराने होंगे।

अंतिम शब्द: एलआईसी प्रीमियम भुगतान के लिए ग्रेस पीरियड सीमित समय है और आपको इस समय के दौरान प्रीमियम भुगतान करना होगा जैसे ही  ग्रेस पीरियड समाप्त हो जाती है वैसे ही, आपकी पॉलिसी लैप्स हो जाती है। एक लैप्स्ड पॉलिसी  को पुनर्जीवित करने के लिए आपको न केवल जुर्माने के रूप में कुछ अतिरिक्त शुल्क का भुगतान करना होगा, बल्कि पॉलिसी रिन्युअल की पूरी प्रक्रिया से गुजरना होगा। इसलिए,  एलआईसी पॉलिसी के प्रीमियम का भुगतान समय पर और कम से कम ग्रेस पीरियड के भीतर करना आपके  लिए बेहतर होगा। आमतौर पर, बीमा प्रदाता प्रीमियम भुगतान की तारीख और ग्रेस पीरियड के बारे में भी जानकारी देते हैं।

Written By: PolicyBazaar - Updated: 16 September 2021
Search
Disclaimer: Policybazaar does not endorse, rate or recommend any particular insurer or insurance product offered by an insurer.
Newsletter
Sign up for newsletter
Sign up our newsletter and get email about LIC India.

Investment plans articles

Recent Articles
Popular Articles
How to Invest Money

25 Nov 2021

The investment made today is the asset created for tomorrow...
Read more
Gold Bonds in India for NRIs

24 Nov 2021

Gold is an asset whose value increases over time that may be...
Read more
PIS Account for NRI

24 Nov 2021

Non-Resident Indians can operate in the recognized stock...
Read more
Process to Fill SSY Form in Post Office?

20 Nov 2021

The Sukanya Samriddhi Yojana (SSY) is a post office scheme...
Read more
How to Fill a Post Office Savings Bank Form?

20 Nov 2021

Post Office Savings Bank Account is a deposit scheme with easy...
Read more
Best LIC Policies For Investment in 2022
When it comes to purchasing a life insurance plan, 'LIC policies' are the most popular choice for customers. LIC...
Read more
Short Term Investments Options
Short-term investments can be described as temporary investments or marketable securities, which can be easily...
Read more
Post Office Monthly Income Scheme - MIS Interest Rate 2022
Are you looking for an investment avenue that is safe and secure, earns substantial returns with a short locking...
Read more
SBI Life Insurance Plans in India
SBI Life Insurance, a joint venture between State Bank of India (SBI) and BNP Paribas Assurance, provides...
Read more
State Bank Of India Investment Plans
Monthly investments plan is a popular investment options for individuals who wants to gain a profitable investment...
Read more
Close
Download the Policybazaar app
to manage all your insurance needs.
INSTALL