भारत सरकार द्वारा बालिकाओं के लिए सुकन्या समृद्धि योजना के 5 लाभ

सुकन्या समृद्धि योजना 2015 में सरकार के 'बेटी बचाओ बेटी पढाओ' अभियान के एक भाग के रूप में शुरू की गई बालिकाओं के लिए एक बचत योजना है। सुकन्या समृद्धि खाता लड़की के 10 साल के होने से पहले कभी भी खोला जा सकता है। इस योजना के तहत कम से कम रु.  1,000/- और अधिकतम रु. 1,50,000/-  एक वर्ष में जमा किए जा सकता है।

Read more
Premium paid
Insurer pays your premiums in your absence
Invest
₹10k/month your child will get ₹1 Cr Tax free
Tax saving
₹46,800 in tax under Section 80(C)
All savings are provided by the insurer as per the IRDAI approved insurance plan. Standard T&C Apply
+91
View Plans
Please wait. We Are Processing..
Plans available only for people of Indian origin By clicking on "View Plans" you, agree to our Privacy Policy and Terms Of Use #For a 55 year on investment of 20Lacs #Discount offered by insurance company Tax benefit is subject to changes in tax laws
*All savings are provided by the insurer as per the IRDAI approved insurance plan. Standard T&C Apply.
Get Updates on WhatsApp
All savings are provided by the insurer as per the IRDAI approved insurance plan. Standard T&C Apply

सुकन्या समृद्धि योजना के माध्यम से बचत करने के कई लाभ हैं। आइए हम उनमें से पांच पर ध्यान डालें: 

*सभी बचत बीमाकर्ता द्वारा IRDAI द्वारा अनुमोदित इंश्योरेंस प्लान के अनुसार प्रदान की जाती है।

मानक नियम एवं शर्तें लागू

उच्च ब्याज दर

सुकन्या समृद्धि खाता चालू वित्त वर्ष यानी वित्त वर्ष अर्थात FY 2016-17 के लिए 8.6% का ब्याज दर प्रदान करता है। अन्य सेविंग्स प्लान्स  की तुलना में, इस योजना द्वारा दिया जाने वाला ब्याज दर सबसे अधिक है।

हर साल, भारत सरकार चालू वित्तीय वर्ष के लिए ब्याज दर की घोषणा करती है। इस पर ब्याज वार्षिक रूप से संयोजित होता है, जिसका अर्थ है कि इसे वार्षिक रूप से जमा किया जाता है। ब्याज हर महीने महीने के 5 वें और आखिरी दिन के बीच सबसे कम शेष राशि पर जमा किया जाता है।

आय-कर बचत

आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत इस खाते में योगदान के लिए आयकर छूट प्राप्त है। इस योजना में ब्याज पर और पैसे निकालने के समय भी छूट उपलब्ध है। यह योजना राजस्व विभाग (डीओआर) के अधिकार में है। डीओआर विधायी सुधार करेगा। इसके अलावा, यह योजना सबसे अधिक कर कुशल योजनाओं में से एक होगी।

लॉक इन अवधि

लॉक-इन अवधि इस योजना की सबसे अच्छी विशेषताओं में से एक है। खाते की परिपक्वता आयु इक्कीस वर्ष है और यह उस तारीख से शुरू होती है जब खाता खोला गया था या जब आपकी बेटी की शादी हुई थी (इनमे से जो भी पहले हुआ हो)। सुनिश्चित करें कि शादी के समय आपकी बेटी की उम्र 18 साल है।

आपकी बेटी की शादी के बाद खाते का संचालन नहीं किया जा सकता है। इससे पहले की बेटी 18 साल की हो जाए, माता-पिता को पैसे निकाल लेने चाहिए  और यह तभी किया जा सकता है जब आपको उच्च शिक्षा के लिए पैसो की आवश्यकता हो।

अगर समय से पहले पैसे निकालने हो तो खाते की शेष राशि का केवल 50% ही पिछले वित्तीय वर्ष के अंत में निकाला जा सकता है। खाता खोलने की तारीख से 14 साल तक खाते में पैसे जमा किए जा सकते है।   इसके अलावा, खाते की परिपक्वता अवधि खाता खोलने की तारीख से 21 वर्ष है।

गारंटीड परिपक्वता के लाभ (जीएमबी)

जब आपका सुकन्या समृद्धि खाता परिपक्वता की तारीख पर पहुंच जाता है, तो जमा किए गए ब्याज सहित खाते की शेष राशि का भुगतान सीधे पॉलिसीहोल्डर (इस मामले में बालिका) को किया जाएगा। यह मुख्य रूप से बालिकाओं को वित्तीय स्वतंत्रता प्रदान करने के लिए आवश्यक है और इसलिए भारत में उन्हें सशक्त बनाने के लिए एक कारगर तरीके के रूप में कार्य करता है।

*सभी बचत बीमाकर्ता द्वारा IRDAI द्वारा अनुमोदित इंश्योरेंस प्लान के अनुसार प्रदान की जाती है।

मानक नियम एवं शर्तें लागू

परिपक्वता के बाद भी ब्याज

सुकन्या समृद्धि खाता योजना के परिपक्वता तक पहुंचने पर भी पॉलिसीहोल्डर को ब्याज देता है। सुकन्या समृद्धि योजना की एक अनोखी विशेषता यह है कि खता परिपक्व होने के बाद भी ब्याज जमा किया जाता है और यह तब तक चलता रहता है जब तक खाताधारक इसे बांध ना करे।  

सारांश !

बाल शिक्षा योजना के लिए पर्याप्त पूंजी बनाने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है अपनी बचत का एक बड़ा हिस्सा अलग रखना या इक्विटी में निवेश करना। हालाँकि, आपको केवल सुकन्या समृद्धि खाते में बचत का एक छोटा सा हिस्सा निवेश करने की और लंबे समय के बाद इसका लाभ प्राप्त करने की आवश्यकता है। उच्च ब्याज दर को देखते हुए, व्यक्ति निश्चित रूप से अपनी बेटी को उज्जवल भविष्य प्रदान करने के लिए पर्याप्त पूंजी जमा कर सकता है।

Written By: PolicyBazaar - Updated: 04 October 2021
top
Close
Download the Policybazaar app
to manage all your insurance needs.
INSTALL