चाइल्ड प्लान

चाइल्ड प्लान निवेश और बीमा का एक मिक्स प्रोडक्ट है जो बच्चे की भविष्य की जरूरतों के लिए वित्तीय योजना बनाने में मदद करता है।इस प्लान के साथ मिलने वाला बीमा यह सुनिश्चित करता है कि माता-पिता के दुर्भाग्यपूर्ण निधन की स्थिति में बच्चा सुरक्षित रहे। और इस प्लान में निवेश का ऑप्शन आपको अपने बच्चे के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए पर्याप्त पैसा जोड़ने में मदद करता है। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि चाइल्ड प्लान एक महत्वपूर्ण माइलस्टोन पर फ्लेक्सिबल पेआउट के साथ आते हैं जिससे अलग-अलग स्टेज पर बच्चे की शिक्षा के लिए फंड उपलब्ध हो जाता है। 

Read more
Best Child Saving Plans
  • Insurer pays your premiums in your absence

  • Invest ₹10k/month and your child gets ₹1 Cr tax free*

  • Save upto ₹46,800 in tax under Section 80(C)

*All savings are provided by the insurer as per the IRDAI approved insurance plan. Standard T&C Apply

Nothing Is More Important Than Securing Your Child's Future

Invest ₹10k/month your child will get ₹1 Cr Tax Free*

+91
View Plans
Please wait. We Are Processing..
Plans available only for people of Indian origin By clicking on "View Plans" you agree to our Privacy Policy and Terms of use #For a 55 year on investment of 20Lacs #Discount offered by insurance company Tax benefit is subject to changes in tax laws
Get Updates on WhatsApp

चाइल्ड एजुकेशन प्लान क्या है?

चाइल्ड एजुकेशन प्लान को इस तरह से तैयार किया गया है कि बच्चा चाहे जिस भी फील्ड में पढ़ाई करना चाहे उसके पढ़ाई के खर्च में कभी कोई समस्या न आए। ये प्लान लाइफ कवर और देय प्रीमियम के भुगतान पर बचत को अधिकतम करने के अवसरों के साथ आते हैं। पॉलिसी टर्म के अंत में एकमुश्त राशि (लम्प सम अमाउंट) यह सुनिश्चित करती है कि उच्च शिक्षा के वित्तपोषण के लिए न तो आप और न ही आपके बच्चे को पैसों के लिए संघर्ष करना पड़े। 

जब आपके बच्चे के सुरक्षित भविष्य के लिए बचत करने की बात आती है तो आपके लिए कई विकल्प मौजूद हैं। निम्न तालिका में तीन अलग-अलग प्रकार के बचत के तरीकों की तुलना की गई है:

क्या चाइल्ड प्लान टैक्स फ्री हैं?

डेथ बेनिफिट और एनुअल इनकम बेनिफिट के अलावा, बीमा खरीदार अक्सर कर में बचत करने के तरीके खोजते हैं। उल्लेखनीय है कि चाइल्ड प्लान में भी किसी अन्य बीमा योजना की तरह टैक्स बेनिफिट मिलते हैं। पॉलिसीधारक आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80सी, 10(10डी), और 80डीडी के तहत ऐसी पॉलिसीज़ के माध्यम से अपनी कर योग्य आय पर कटौती का दावा कर सकते हैं। ध्यान दें कि चाइल्ड प्लान से मिलने वाले डेथ और मैच्योरिटी बेनिफिट सहित सभी तरह की आय पूरी तरह टैक्स फ्री है।

चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान पर टैक्स बेनिफिट्स

आयकर अधिनियम, 1961 की धाराएं टैक्स बेनिफिट्स
धारा 80सी
  • चाइल्ड प्लान के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम कर कटौती के लिए पात्र हैं।

  • आप अपनी कर योग्य आय से ₹ 1.5 लाख तक की कटौती का दावा कर सकते हैं।

  • आप अपने बच्चे की ट्यूशन फीस पर ₹ 1 लाख तक की कटौती का दावा कर सकते हैं।*

धारा 10(10डी)
  • चाइल्ड प्लान से मिलने वाले मैच्योरिटी बेनिफिट, डेथ बेनिफिट और इनकम बेनिफिट सहित सभी तरह की आय पूरी तरह टैक्स-फ्री है।

धारा 80 डीडी
  • यह गंभीर बीमारियों या विशेष जरूरतों वाले बच्चों के माता-पिता पर लागू होती है।

  • बच्चों के इलाज से जुड़े खर्चों पर 33% तक की कटौती का दावा किया जा सकता है।

  • मामूली और बड़ी अक्षमताओं से संबंधित खर्चों पर क्रमशः 40% और 80% तक की कटौती का दावा किया जा सकता है। 

धारा 80ई
  • बच्चे की उच्च शिक्षा के लिए लिए ऋण पर चुकाया गया ब्याज कर कटौती योग्य है। 

भारत में बेस्ट चाइल्ड प्लान्स

प्लान्स एंट्री ऐज मैक्सिमम मैच्योरिटी ऐज न्यूनतम वार्षिक प्रीमियम न्यूनतम बीमित राशि
एगॉन लाइफ राइजिंग स्टार इंश्योरेंस प्लान 18-48 साल 65 साल ₹ 20,000/- नियमित वार्षिक प्रीमियम का 10 गुना.
अवीवा यंग स्कॉलर सिक्योर 21-50 साल 71 साल ₹ 50,000/- वार्षिक प्रीमियम का 10 गुना
बजाज आलियांज यंग एश्योर 18-50 साल 60 साल N/A वार्षिक प्रीमियम का 10 गुना
भारती एक्सा लाइफ चाइल्ड एडवांटेज प्लान 18-55 साल 76 साल न्यूनतम बीमित राशि पर निर्भर करता है ₹ 25,000/-
बिरला सन लाइफ इंश्योरेंस विज़न स्टार प्लस 18-55 साल 75 साल N/A ₹ 1 लाख
एडलवाइस टोकियो लाइफ एडुसेव 18-45 साल 60 साल ₹ 6,968/- ₹ 2.25 लाख
एक्साइड लाइफ न्यू क्रिएटिंग लाइफ इंश्योरेंस प्लस 18-45 साल 60 साल 5 साल पीपीटी: 50,000 प्रति वर्ष; 8 साल पीपीटी:30,000 प्रति वर्ष; 10 साल:25,000 प्रति वर्ष 5 पीपीटी: 2,05,020 (मासिक) और 1,85,280 (वार्षिक); 8 पीपीटी: 1,78,780 (मासिक) और 1,62,380 (वार्षिक) ; 10 पीपीटी: 1,79,590(मासिक) और 1,63,120 (वार्षिक)
फ्यूचर जनरली एश्योर्ड एजुकेशन प्लान 21-50 साल 67 साल ₹ 20,000/- N/A
एचडीएफसी एसएल यंग स्टार सुपर प्रीमियम 18-65 साल 75 साल ₹ 15,000/- वार्षिक प्रीमियम का 10 गुना
आईसीआईसीआई प्रू स्मार्टकिड सॉल्यूशन 20-54 साल 64 साल ₹ 48,000/- ₹ 45,000/-
इंडियाफर्स्ट हैप्पी इंडिया प्लान 18-50 साल 60 साल ₹ 12,000/- वार्षिक प्रीमियम का 10 या 7 गुना अधिक या 0.5/0.25*टर्म*वार्षिक प्रीमियम
कोटक हेडस्टार्ट चाइल्ड एश्योर 18-60 साल 70 साल रेगुलर पे — ₹ 20,0005  पे — ₹ 50,00010 पे — ₹ 20,000 वार्षिक प्रीमियम का 10 या 7 गुना अधिक या 0.5/0.25*टर्म*वार्षिक प्रीमियम
मैक्स लाइफ शिक्षा प्लस सुपर 21-50 साल 65 साल ₹ 25000/- ₹ 2.5 लाख
पीएनबी मेटलाइफ कॉलेज प्लान 20-45 साल 69 साल ₹ 18,000/- ₹ 2,12,040/-
प्रामेरिका लाइफ फ्यूचर आइडल गोल्ड प्लान 18-50 साल 65 साल ₹ 10, 800/- ₹ 1.5 लाख
रिलायंस लाइफ चाइल्ड प्लान 20-60 साल 70 साल ₹ 25,000/- पॉलिसी के बराबर
सहारा अंकुर चाइल्ड प्लान 0-13 साल 40 साल सिंगल-प्रीमियम- ₹ 30,000/- भुगतान किए गए सिंगल प्रीमियम का 5 गुना
एसबीआई लाइफ-स्मार्ट चैंप इंश्योरेंस 21-50 साल 70 साल ₹ 6000/- ₹ 1 लाख
एसबीआई लाइफ-स्मार्ट स्कॉलर 18-57 साल 65 साल ₹ 24,000/- वार्षिक प्रीमियम का 20/7 गुना (रेगुलर पे) सिंगल प्रीमियम का 1.25 गुना (सिंगल पे)
श्रीराम लाइफ न्यू श्री विद्या 18-50 साल 70 साल N/A ₹ 1 लाख
स्मार्ट फ्यूचर इनकम प्लान 18-55 साल 80 साल N/A चुनी गई मासिक आय का 100 गुना
एसयूडी लाइफ आशीर्वाद 18-50 साल 70 साल N/A ₹ 4 लाख
टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस सुपर अचीवर 25-50 साल 70 साल ₹ 24,000/- वार्षिक प्रीमियम का 10 गुना
वेल्थश्योरेंस फ्यूचर स्टार इंश्योरेंस प्लान 18-54 साल 64 साल ₹ 25,000/- वार्षिक प्रीमियम का 10/7 गुना अधिक या 0.5/0.25*टर्म*वार्षिक प्रीमियम
See More Plans

भारत में बेस्ट चाइल्ड प्लान्स की तुलना करें

बीमा प्रदाता विभिन्न प्रकार के चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान्स पेश करते रहे हैं, जिनमें से प्रत्येक संबंधित माता-पिता की अनूठी जरूरतों को पूरा करता है। कुछ लोकप्रिय हैं: बाजार से जुड़ी बीमा पॉलिसीज़, ट्रेडिशनल एंडोमेंट-बेस्ड पॉलिसीज़, योजनाएं जो समय-समय पर भुगतान की पेशकश करती हैं, योजनाएं जो एकमुश्त भुगतान (लम्प सम पेआउट) के साथ आती हैं, आदि। 

आज उपलब्ध विकल्पों की भरमार को देखते हुए, यह महत्वपूर्ण है कि आप सावधानीपूर्वक रिसर्च करें और उन विकल्पों को शॉर्टलिस्ट करें जो आपके और आपके बच्चे की आवश्यकताओं के लिए सबसे उपयुक्त हों। नीचे दी गई तालिका में भारत में कुछ बेस्ट चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान्स को सूचीबद्ध किया गया है।

चाइल्ड एजुकेशन प्लान की मुख्य विशेषताएं और लाभ

चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान पॉलिसीधारक को कई तरह के रोमांचक और अनोखे लाभ प्रदान करता है। यह बच्चे के भविष्य को आर्थिक रूप से सुरक्षित करने के लिए लाइफ कवर के साथ एक व्यापक मैच्योरिटी बेनिफिट प्रदान करता है। 

इसके अलावा, एक चाइल्ड एजुकेशन प्लान आपको अपने बच्चे के लिए बिना किसी परेशानी के बड़ी बचत करने में मदद करेगा।

आइए चाइल्ड एजुकेशन प्लान द्वारा दिए जाने वाले लाभों पर एक नज़र डालें।

  1. बच्चे की शिक्षा के लिए कोष

    चाइल्ड प्लान आपको आने वाले समय के लिए पर्याप्त बचत करने और आपके बच्चे के लिए एक कोष बनाने में मदद करता है। चाइल्ड एजुकेशन प्लान से मिलने वाला पैसा योजना के नियमों और शर्तों और प्रीमियम के रूप में इसमें निवेश की गई राशि पर निर्भर करता है।

  2. महंगाई दर (इन्फ्लेशन) को मात देने वाले हाई रिटर्न

    सभी मार्केट-लिंक्ड चाइल्ड प्लान 10-12% से ज्यादा रिटर्न देते हैं। अधिकांश सरकारी योजनाएं जैसे सुकन्या समृद्धि योजनाएं बहुत कम रिटर्न देती हैं जो महंगाई दर को मात नहीं दे पाती हैं।

    इसके अलावा, एक चाइल्ड एजुकेशन प्लान जैसे कि यूलिप प्लान आपको निवेश करने के लिए विभिन्न प्रकार के फंड (मनी मार्केट, हाइब्रिड, डेट और इक्विटी) को चुनने में सक्षम बनाता है। आपको डायनेमिक फंड एलोकेशन और सिस्टमैटिक ट्रांसफर प्लान में से चुनने का विकल्प भी दिया जाता है।

  3. बच्चे के मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए एक किटी

    चाइल्ड प्लान चाइल्ड इन्वेस्टमेंट प्लान के टेन्योर के दौरान भी पैसे निकालने का विकल्प देते हैं। इस तरह की आंशिक निकासी तब काम आती है जब बच्चे को किसी बीमारी, मामूली दुर्घटना या गंभीर चिकित्सा स्थिति के कारण अस्पताल में भर्ती कराया जाता है। बेस्ट चाइल्ड प्लान आपकी स्वास्थ्य बीमा योजना के लिए एक ऐड-ऑन के रूप में कार्य करता है।

  4. माता-पिता की अनुपस्थिति में बच्चे का समर्थन करता है

    यदि चाइल्ड एजुकेशन प्लान की पॉलिसी टर्म के दौरान माता-पिता (यानी, बीमित व्यक्ति) का निधन हो जाता है, तो बीमा कंपनियां प्रीमियम छूट (वेवर) प्रदान करती हैं। प्रीमियम की छूट (डब्ल्यूओपी) सुविधा के साथ, नामांकित लाभार्थी को बीमित राशि का भुगतान किया जाएगा, जबकि शेष पॉलिसी अवधि के लिए देय प्रीमियम का भुगतान बीमा कंपनी द्वारा किया जाएगा।

    पॉलिसी की मैच्योरिटी पर, बच्चा बेस्ट चाइल्ड प्लान खरीदने के समय वादा किए गए एकमुश्त भुगतान के रूप में मैच्योरिटी राशि प्राप्त करने का हकदार होता है।

    प्रीमियम वेवर बेनिफिट अक्सर बेस्ट चाइल्ड एजुकेशन प्लान के साथ इनबिल्ट होता है। 

  5. बच्चे के लिए आय सुरक्षा

    कुछ चाइल्ड सेविंग प्लान बच्चों को नियमित आय प्रदान करते हैं, जो कि बीमित राशि के 1% के बराबर होती है यदि माता-पिता प्रीमियम का भुगतान करने के लिए मौजूद नहीं हैं।

  6. उच्च शिक्षा के लिए ऋण के लिए कोलैटरल (संपार्श्विक) के रूप में कार्य करता है

    उच्च शिक्षा महंगी है, चाहे आप बच्चे को भारत या विदेश में किसी निजी कॉलेज या विश्वविद्यालय में भेजने की योजना बना रहे हों। यदि आप भविष्य में बच्चे की उच्च शिक्षा के लिए ऋण लेना चाहते हैं तो चाइल्ड प्लान काम आता है क्योंकि इन्हें कोलैटरल (संपार्श्विक) के रूप में उपयोग किया जा सकता है। 

    उन्हें अन्य बच्चों से संबंधित उधार के लिए भी कोलैटरल के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

    चाइल्ड प्लान एक बेहतरीन एजुकेशन पालिसी है और बच्चे के लिए सबसे अच्छी निवेश योजना है। चाइल्ड एजुकेशन प्लान अनुशासन भी लेकर आता है और बच्चे के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए बचत की आदत बनाने में मदद करता है।

  7. आपके बच्चे की प्रतिभा को निखारने के लिए आंशिक निकासी की सुविधा

    यदि आपके बच्चे में कोई विशेष प्रतिभा है जैसे कोई इंस्ट्रूमेंट बजाना या अभिनय करना, तो आप चाइल्ड एजुकेशन प्लान से आंशिक रूप से निकासी करके अपने बच्चे को इसे आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं। इसके अलावा, कुछ योजनाएं समय-समय पर भुगतान (पीरिऑडिक पेआउट) का विकल्प प्रदान करती हैं जिनका उपयोग बच्चे की प्रतिभा को और प्रोत्साहित करने के लिए किया जा सकता है।

  8.  टैक्स बेनिफिट्स

    सभी चाइल्ड प्लान टैक्स छूट के उच्चतम ब्रैकेट यानी ई-ई-ई श्रेणी के अंतर्गत आते हैं। यह पीपीएफ जैसी योजनाओं के लिए भारतीय कर कानूनों द्वारा दिए गए कर लाभ का उच्चतम ग्रेड है।

  9. अतिरिक्त राइडर्स

    कई राइडर्स उपलब्ध हैं, जो आपको साधारण जीवन बीमा पॉलिसी के अलावा और भी बहुत कुछ देते हैं। ये राइडर्स तीन उप-श्रेणियों में उपलब्ध हैं:

    • एक्सीडेंटल डेथ और डिसेबिलिटी बेनिफिट - एक्सीडेंटल डेथ और डिसएबिलिटी राइडर बेनिफिट आपकी दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना के कारण मृत्यु या विकलांगता की स्थिति में अतिरिक्त बीमित राशि का भुगतान करता है।

    • क्रिटिकल इलनेस राइडर बेनिफिट - क्रिटिकल इलनेस राइडर बेनिफिट गंभीर बीमारियों के पूर्व-निर्धारित सेट के लिए कवरेज प्रदान करता है।

  10. पॉलिसी की अवधि, प्रीमियम के भुगतान की अवधि और लाभ के भुगतान में फ्लेक्सिबिलिटी

    जब आपको लगता है कि आपके बच्चे को अपने पैरों पर खड़ा होना चाहिए, तो यह पॉलिसी के मैच्योर होने का सबसे अच्छा समय है। सटीक अवधि से मेल खाने के लिए पॉलिसी की अवधि चुनें। 

    प्रीमियम राशि बीमित राशि और आपके द्वारा चुने गए मैच्योरिटी बेनिफिट की राशि के अधीन है। आप नियमित अंतराल पर या एक निश्चित अवधि के लिए प्रीमियम राशि का भुगतान करने का विकल्प चुन सकते हैं। अधिकांश जीवन बीमा प्रदाता वार्षिक, अर्ध-वार्षिक, त्रैमासिक और मासिक भुगतान जैसे विकल्प प्रदान करते हैं।

    जब मैच्योरिटी राशि के भुगतान की बात आती है, तो आप चुनी गई पॉलिसी के आधार पर इसे एकमुश्त भुगतान या 5 साल या उससे अधिक के रूप में प्राप्त करना चुन सकते हैं।

चाइल्ड प्लान्स के प्रकार

अधिकतर सभी बीमा प्रदाता चाइल्ड इंश्योरेंस पॉलिसीज़ को पोर्टफोलियो में एक महत्वपूर्ण बीमा उत्पाद के रूप में पेश करते हैं। ये चाइल्ड प्लान अलग-अलग मापदंडों पर अलग-अलग प्राथमिकताओं और जरूरतों के आधार पर भिन्न हो सकते हैं और अनुकूलित और मनचाही सुविधाओं के साथ सुलभ होते हैं।

भारत में विभिन्न प्रकार के चाइल्ड प्लान निम्नलिखित हैं:

  1. सिंगल-प्रीमियम चाइल्ड प्लान

    पॉलिसीधारक संपूर्ण पॉलिसी अवधि के लिए सिंगल प्रीमियम के रूप में एकमुश्त राशि का भुगतान करता है और प्रीमियम भुगतान की ड्यू डेट्स को याद रखने से चिंता मुक्त रहता है। आपको प्रीमियम भुगतान के लिए अपनी फाइनेंस को अरेंज करने के किसी भी झंझट का सामना नहीं करना पड़ेगा। कुछ बीमा प्रदाता अतिरिक्त रूप से आकर्षक छूट प्रदान करते हैं या चाइल्ड प्लान पर प्रीमियम कम करते हैं।

  2. रेगुलर प्रीमियम चाइल्ड प्लान

    सिंगल प्रीमियम चाइल्ड एजुकेशन प्लान के विपरीत, रेगुलर प्रीमियम चाइल्ड पॉलिसी आपको प्रीमियम के भुगतान पर फ्लेक्सिबिलिटी प्रदान करती है। आप प्रीमियम का मासिक, त्रैमासिक, अर्ध-वार्षिक या वार्षिक भुगतान कर सकते हैं।

  3. चाइल्ड यूलिप

    चाइल्ड यूलिप प्लान आपको उच्च बीमा कवरेज, इक्विटी मार्केट में योगदान और अनुशासित निवेश के साथ-साथ तीन-दीर्घकालीन लाभ प्रदान करता है। तीन लाभों का मतलब है कि नामांकित लाभार्थी, यानी बीमित माता-पिता या अभिभावक की मृत्यु पर बच्चे को बीमित राशि प्राप्त होती है। भविष्य के प्रीमियम को माफ कर दिया जाता है और पॉलिसी के मैच्योर होने पर मैच्योरिटी राशि का भुगतान किया जाता है, यह सुनिश्चित करते हुए कि आपके बच्चों का भविष्य का सपना पूरा हो।

  4. ट्रेडिशनल चाइल्ड एंडोमेंट प्लान

    जब चाइल्ड एंडोमेंट प्लान की बात आती है तो यह अनिवार्य रूप से एक ट्रेडिशनल लाइफ इंश्योरेंस प्लान है जो सुरक्षा और बचत प्रदान करता है। यह आपको कुछ समय बचाने में सक्षम बनाता है और पॉलिसी की मैच्योरिटी पर एकमुश्त राशि प्राप्त करता है। चाइल्ड एंडोमेंट प्लान एक फाइनेंशियल के रूप में कार्य करेगा जिसमें आपके बच्चे के लाभ के लिए वित्तीय उद्देश्यों को पूरा किया जाएगा। प्रीमियम का निवेश डेट इंस्ट्रूमेंट्स (ऋण लिखतों) में किया जाता है जबकि निर्णय लेने का अधिकार बीमा कंपनी के पास होता है। मैच्योरिटी पर देय बोनस रिटर्न तय करता है।

आपको चाइल्ड एजुकेशन प्लान की आवश्यकता क्यों है?

अब तक की उच्चतम स्तर पर महंगाई दर के साथ, शिक्षा क्षेत्र लागत में भारी वृद्धि देखी गई है। भारत में हो या कहीं और, शिक्षा की लागत ने कई पैशनेट बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा से वंचित कर दिया है। इसलिए, चाइल्ड एजुकेशन प्लान की आवश्यकता को कम करके नहीं आंका जा सकता है और प्रत्येक माता-पिता को फ्यूचर की योजना बनानी चाहिए और अपने बच्चों की शिक्षा के लिए बचत करनी चाहिए। 

यहां कुछ महत्वपूर्ण कारक दिए गए हैं कि माता-पिता को चाइल्ड एजुकेशन प्लान में क्यों निवेश करना चाहिए।

  1. तत्काल वित्तीय सुरक्षा

    माता-पिता की मृत्यु के मामले में, चाइल्ड प्लान, चाइल्ड प्लान के लिए प्रीमियम का भुगतान करने वाले अर्निंग मेंबर की मृत्यु के मामले में एकमुश्त राशि का भुगतान करता है। यह पैसा पूरी तरह से टैक्स फ्री होता है और आमतौर पर किसी भी तत्काल ऋण का भुगतान करने के लिए पर्याप्त है ताकि बच्चे की शिक्षा प्रभावित न हो।

  2. भारत में शिक्षा में महंगाई दर को मात देता है

    भारत में शिक्षा महंगाई दर वर्तमान में 11-12% है। अब यह सोचिए कि अगर आपके पास कोई ठोस योजना नहीं है, तो विदेश में पढ़ाई के लिए आपकी बचत पर एक बड़ा असर पड़ेगा। वास्तव में, विदेशों में विश्वविद्यालय शिक्षा के लिए अकेले ट्यूशन फीस में पिछले 10 वर्षों में 16% की वृद्धि हुई है। 

  3. ट्यूशन और विदेशी अध्ययन की बढ़ती लागत की भरपाई

    अर्ली स्टेज में चाइल्ड एजुकेशन प्लान युवा माता-पिता के लिए एक आदर्श विकल्प होना चाहिए। आपको पता होना चाहिए कि विशेषज्ञों के अनुसार, 2040 तक, इंजीनियरिंग की डिग्री के लिए लगभग 45 लाख रुपये खर्च होंगे! चाइल्ड एजुकेशन प्लान में अपनी बचत का निवेश करने से आपको बढ़ती ट्यूशन फीस, निजी स्कूल शिक्षा, या किसी विदेशी देश में पढ़ाई करने में मदद मिल सकती है।

  4. माता-पिता की मृत्यु के बाद भी निरंतर निवेश 

    बेस्ट चाइल्ड एजुकेशन प्लान न केवल माता-पिता/अभिभावक की मृत्यु पर एकमुश्त राशि का भुगतान करता है, बल्कि बीमित व्यक्ति की ओर से निवेश जारी रखता है।

    बीमा कंपनियों का मानना है कि चाइल्ड एजुकेशन प्लान में प्रीमियम छूट का लाभ महत्वपूर्ण है क्योंकि यह बीमित व्यक्ति के निधन होने पर भी बच्चे के लिए इन्वेस्टमेंट प्लान को जारी रखता है।

  5. निवेश पर हाई रिटर्न 

    इस स्तर पर, यदि आप अपने बच्चे की शिक्षा से समझौता नहीं करना चाहते हैं, तो आपको जल्द से जल्द उपयुक्त विकल्प तलाशने होंगे। यद्यपि इन्वेस्टमेंट कम्पोनेंट आपको एक अच्छा कोष बनाने की अनुमति देता है, यदि आप चाहते हैं कि कंपाउंडिंग की पावर आपके लिए काम करे, तो आपको एक लंबी अवधि के लिए, निश्चित समयरेखा के साथ निवेश करना होगा।

आपको चाइल्ड प्लान में कितना निवेश करना चाहिए?

इस प्रश्न का उत्तर देने के लिए भारत में अच्छी शिक्षा के महत्व को समझना जरूरी है। भारत तेजी से एक ऐसे समाज की ओर बढ़ रहा है जहां अमीर और गरीब के बीच की खाई चौड़ी होती जा रही है। अच्छी शिक्षा आपके बच्चे के लिए एक अच्छी आजीविका का सोर्स बन सकती है और इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि जब आपको अपनी सेवानिवृत्ति के लिए अपनी कमाई की आवश्यकता होती है तो आपको इसे बच्चों की पढ़ाई पर खर्च करने की ज़रूरत नहीं होगी।

2020 में भारत में शिक्षा की लागत (स्नातक पाठ्यक्रम) 2040 में भारत में शिक्षा की लागत निवेश राशि
₹ 15 लाख ₹ 45 लाख अगले 5 वर्षों के लिए ₹ 10,000 प्रति माह

यह कैसे काम करता है?

चाइल्ड एजुकेशन प्लान एंडोमेंट पॉलिसी, यूलिप या मनी-बैक के रूप में काम कर सकता है। 

  1. मनी-बैक चाइल्ड प्लान

    मनी-बैक प्लान अब तक का सबसे अधिक मांग किया गया प्लान है। यह प्लान सुनिश्चित करता है कि आपके बच्चे को नियमित अंतराल पर सर्वाइवल बेनिफिट (उत्तरजीविता लाभ) मिलेगा। ये प्लान्स उन व्यक्तियों के लिए अत्यधिक उपयोगी हैं जिन्हें नियमित अंतराल पर एकमुश्त धन की और जीवन स्तर की योजना बनाने में मदद की आवश्यकता होती है। 

    मनी-बैक का उपयोग करने का एकमात्र नुकसान यह है कि कभी-कभी इस निवेश से मिलने वाला रिटर्न महंगाई की दर से मेल नहीं खा पाता है, खासकर जब आप अपने बच्चे की शिक्षा के लिए इसका उपयोग करना चाहते हैं। शिक्षा की लागत लगभग 12% की दर से बढ़ रही है। इसकी तुलना में, मनी-बैक प्लान्स आपको लगभग 4% - 8% रिटर्न देंगे, जिससे गोल के समय आपको अपेक्षा से कम पैसा मिलेगा।

    इसके अलावा, मनी बैक प्लान्स में भारी प्रीमियम होता है। 

  2. यूलिप्स (ULIPs)

    यूलिप्स (ULIPs) नॉन-ट्रेडिशनल प्लान्स हैं और इससे मिलने वाला रिटर्न बाजार की स्थिति पर निर्भर करता है। माता-पिता की मृत्यु के मामले में, बच्चे को एकमुश्त राशि के रूप में बीमित राशि प्राप्त होगी। इसमें भविष्य के सभी प्रीमियमों की छूट और मैच्योरिटी पर फंड वैल्यू शामिल होगी।

    यह न भूलें कि यूलिप एग्रेसिव से लेकर  कंज़र्वेटिव तक कई तरह के फंड प्रदान करते हैं। यूलिप योजनाएं आपको बिना टैक्स चुकाए फंड को इक्विटी से डेट में और इसके विपरीत स्विच करने का विकल्प देती है।

  3. एंडोमेंट आधारित चाइल्ड प्लान्स

    तीसरा ऑपरेशनल चाइल्ड प्लान इंस्ट्रूमेंट एंडोमेंट पॉलिसी हो सकता है। यह वह पॉलिसी है जिसमें आपको मैच्योरिटी पर बोनस के साथ एकमुश्त राशि प्राप्त भी होगी। यह फायदेमंद है क्योंकि यह आपके बच्चे के उच्च शिक्षा आदि जैसे खर्चों की तैयारी के लिए वक़्त देती है। हालांकि, यह यूलिप से अलग है, क्योंकि इसमें आपको कम से कम गारंटीकृत भुगतान की अनुमति होती है।

आइए कुछ उदाहरणों पर नज़र डालें!

चलिए कुछ उदाहरणों की मदद से सभी प्रकार के चाइल्ड एजुकेशन प्लान के काम करने के तरीके को समझें:

कल्पना कीजिए, श्री शर्मा का 5 साल का एक बच्चा है और जब उनका बच्चा 20 साल का हो जाएगा तो उन्हें पैसे की जरूरत होगी। इसलिए उन्होंने 15 वर्षों के लिए चाइल्ड पॉलिसी खरीदी।

  1. सिनेरियो 1:

    श्री शर्मा को 10 लाख रुपये के वित्तीय कोष की जरूरत है। इसलिए, वह 15 साल के लिए 10 लाख रुपये की बीमित राशि के साथ एक ट्रडिशनल एंडोमेंट प्लान खरीदते हैं और हर साल प्रीमियम का भुगतान करते हैं। 

    यदि पॉलिसी की अवधि (अर्थात 15 वर्ष) के दौरान श्री शर्मा की 8वें वर्ष में मृत्यु हो जाती है, तो पॉलिसी समाप्त नहीं होगी। बीमा प्रदाता तुरंत डेथ बेनिफिट (आमतौर पर 10 लाख रुपये की बीमित राशि) का भुगतान करेगा और भविष्य के प्रीमियम को माफ कर देगा। इसके बाद यह पॉलिसी शेष 7 वर्षों तक जारी रहेगी। पॉलिसी अवधि के 15 वर्ष पूरे होने के बाद, पॉलिसी मैच्योर हो जाएगी और 10 लाख रुपये के मैच्योरिटी बेनिफिट का भुगतान किया जाएगा। 

    इसलिए, चाइल्ड पॉलिसी वित्तीय कोष का भुगतान करती है, जिसकी श्री शर्मा को अपने बच्चे की उच्च शिक्षा के लिए 15 वर्ष पूरे होने के बाद आवश्यकता होगी। श्री शर्मा का सपना उनके न होने पर भी पूरा होता है।

  2. सिनेरियो 2:

    श्री शर्मा एक मनी-बैक पॉलिसी खरीदते हैं जो हर 5 साल के पूरा होने के बाद बीमित राशि का लगभग 20 प्रतिशत भुगतान करने का वादा करती है। इस चाइल्ड एजुकेशन प्लान के पहले 5 साल पूरे होने के बाद, श्री शर्मा को 2 लाख रुपये मिलते हैं (जहाँ बीमित राशि 10 लाख रुपये है)।

    इसके बाद, 10वें वर्ष में भी, उन्हें 2 लाख रुपये और मिलते हैं। 12वें वर्ष में, श्री शर्मा की दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु हो जाती है। यह पॉलिसी पहले से भुगतान किए गए मनी-बैक बेनिफिट्स की परवाह किए बिना कुल बीमित राशि 10 लाख रुपये का भुगतान करती है। बीमाकर्ता अगले 3 वर्षों के लिए प्रीमियम माफ कर देगा और प्लान जारी रहेगा।

    उनके द्वारा चुनी गई बेस्ट चाइल्ड पॉलिसी की मैच्योरिटी पर, गारंटीकृत मैच्योरिटी बेनिफिट, यानी बीमित राशि का 60 प्रतिशत फिर से भुगतान किया जाता है।

  3. सिनेरियो 3:

    श्री शर्मा एक यूलिप प्लान खरीदते हैं और 15 साल तक हर साल 1 लाख रुपये का प्रीमियम देते हैं। चाइल्ड एजुकेशन प्लान की पॉलिसी अवधि के दौरान उनकी मृत्यु के मामले में, बीमा कंपनी डेथ बेनिफिट प्रदान करेगी।

    इसके अलावा, बीमाकर्ता प्रीमियम माफ कर देगा और चाइल्ड एजुकेशन प्लान जारी रहेगा। 

    प्लान की मैच्योरिटी पर, बीमाकर्ता उस फंड वैल्यू का भुगतान करेगा जो श्री शर्मा के परिवार को उनके बच्चे को उच्च शिक्षा के लिए विदेश भेजने में सहायता करेगी।

चाइल्ड इंश्योरेंस खरीदने के लिए आवश्यक दस्तावेजों की सूची

यहां उन दस्तावेजों की एक सूची दी गई है जो चाइल्ड पॉलिसी खरीदते समय आवश्यक होंगे:

  1. आयु का प्रमाण

    जन्म प्रमाण पत्र, 10वीं/12वीं की मार्कशीट और पासपोर्ट।

  2. पहचान का प्रमाण

    आधार कार्ड, पासपोर्ट, पैन कार्ड, वोटर आईडी

  3. आय का प्रमाण

    बीमा के खरीदार की आय को दर्शाने वाली आय का प्रमाण।

  4. पते का प्रमाण

    टेलीफोन बिल, बिजली बिल, राशन कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस

  5. प्रस्ताव प्रपत्र (प्रपोज़ल फॉर्म)

    विधिवत भरा हुआ प्रस्ताव प्रपत्र।

चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान को क्लेम करने की पूरी प्रक्रिया क्या है?

आपको अपने बच्चे के लिए एक ऐसे बीमा प्रदाता से चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान खरीदना चाहिए जिसका क्लेम सेटलमेंट रेश्यो अधिक हो। इससे संकट के समय में क्विक और स्मूद क्लेम प्रोसेस और सेटलमेंट सुनिश्चित होगा। लगभग हर बीमा प्रदाता के लिए कॉमन क्लेम प्रोसेस इस प्रकार रहता है:

  • किसी भी स्थिति के लिए, जिसके लिए आपको क्लेम फाइल करने की आवश्यकता है, बीमा प्रदाता को घटना के बारे में जल्द से जल्द सूचित करें। आप यह ऑनलाइन ईमेल भेजकर या अपने बीमाकर्ता के टोल-फ्री नंबर पर कॉल करके या नजदीकी ब्रांच ऑफिस में जाकर कर सकते हैं।

  • सभी मिनट और आवश्यक विवरण जैसे कि कारण और घटना की तारीख, नामांकित व्यक्ति का नाम आदि देने के साथ-साथ विधिवत भरे हुए क्लेम फॉर्म को जमा करना भी आवश्यक है।

  • एक बार जब आप बीमाकर्ता के पास क्लेम रजिस्टर कर लेते हैं, तो रिपोर्ट के साथ आवश्यक और सहायक दस्तावेज प्रदान करें।

  • बीमा प्रदाता मामले और सहायक दस्तावेजों को सत्यापित करने के लिए एक सर्वेयर नियुक्त करेगा।

  • अगर क्लेम अप्रूव हो जाता है, और आगे की जांच के बिना, बीमा कंपनी दस्तावेज़ प्रस्तुत करने के 30 दिनों के भीतर क्लेम बेनिफिट ट्रांसफर कर देती है।

चाइल्ड इंश्योरेंस को क्लेम करने के लिए आपको किन दस्तावेजों की आवश्यकता होती है?

चाइल्ड प्लान के लिए क्लेम फाइल करते समय आपको निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी:

  • विधिवत भरा हुआ क्लेम फॉर्म

  • पॉलिसी के दस्तावेज़

  • मेडिकल सर्टिफिकेट

  • मृत्यु प्रमाण पत्र

  • डायग्नोस्टिक रिपोर्ट्स, प्रिस्क्रिप्शन

  • पोस्टमार्टम रिपोर्ट (अप्राकृतिक मृत्यु के मामले में),

  • एफआईआर की कॉपी (अप्राकृतिक मृत्यु के मामले में)

  • एनईएफटी डिटेल्स

  • नामांकित व्यक्ति (नॉमिनी) और पॉलिसीधारक का केवाईसी

चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान के अपवाद (एक्सक्लूजंस)

कुछ परिस्थितियों में मृत्यु होने की स्थिति में बीमा प्रदाता कवरेज की पेशकश नहीं करता है। उन्हें अपवाद (एक्सक्लूजंस) के रूप में जाना जाता है। चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान्स में निम्नलिखित शामिल नहीं हैं: 

  1. नशीली दवाओं या शराब का अत्यधिक सेवन

    यदि पॉलिसीधारक की मृत्यु ड्रग ओवरडोज़ या अल्कोहल के अत्यधिक सेवन से हो जाती है, तो नॉमिनी को कोई लाभ नहीं मिलता है।

  2. आत्म-नुकसान (सेल्फ-हार्म) या आत्महत्या

    नामांकित लाभार्थी को चाइल्ड पॉलिसी खरीदने के एक वर्ष के भीतर आत्महत्या के कारण मृत्यु के मामले में कोई दावा राशि प्राप्त नहीं होती है।

  3. साहसिक या जोखिम भरा खेल

    यदि बीमित व्यक्ति की स्काईडाइविंग, रॉक क्लाइम्बिंग, रेसिंग आदि जैसे किसी साहसिक या जोखिम भरे खेल में भाग लेने के दौरान मृत्यु हो जाती है, तो बीमा प्रदाता क्लेम प्रदान नहीं करता है। 

  4. आपराधिक गतिविधियाँ

    कोई भी आपराधिक या गैरकानूनी कृत्य या युद्ध का कार्य जिसके कारण मृत्यु हो जाती है, वह भी चाइल्ड प्लान के अंतर्गत नहीं आता है।

भारत में शिक्षा के कॉस्ट स्ट्रक्चर को समझना

यह मानते हुए कि महंगाई की दर आगे चलकर 10% होगी।

आज के समय में अगर आप देश के किसी भी प्रमुख कॉलेज से इंजीनियरिंग करना चाहते हो, तो लगभग 10, 00, 000 रुपये का खर्च आएगा। और, फिर आने वाले वर्षों में मान लीजिए 15 साल में यह खर्च 40 से 50 लाख रुपये के बीच होगा।

इसी तरह, यदि कोई प्राइवेट मेडिकल कॉलेज आज 25, 00, 000 रुपये लेता है तो आप आसानी से गणना कर सकते हैं कि अगले पंद्रह वर्षों में आपके पास लगभग एक करोड़ रुपये का कोष होना चाहिए।

भारत दुनिया भर में सबसे समृद्ध विकासशील देशों में से एक है। वे दिन गए जब भारत केवल अपनी समृद्ध संस्कृति और परंपराओं के लिए जाना जाता था। आज शिक्षा के क्षेत्र में भी भारत ने अपना नाम कमाया है।

आज, भारत में, हमारे पास स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के संदर्भ में और आपकी आवश्यकताओं के अनुरूप विकल्पों का चयन करने के लिए ढेर सारे विकल्प उपलब्ध हैं। हालांकि, उन कारकों को समझना समझदारी है, जो भारत में शिक्षा की लागत को प्रभावित करते हैं।

आगे पढ़ें!

आवास (अकोमोडेशन): आज अधिकांश भारतीय विश्वविद्यालय / कॉलेज भारतीय और गैर-भारतीय नागरिकों दोनों के लिए परिसर के भीतर आवास की सुविधा प्रदान करते हैं। यदि आप किसी ऐसे कॉलेज में दाखिला लेने के इच्छुक हैं या दाखिला लेने का इरादा रखते हैं, जिसमें अकोमोडेशन की सुविधा नहीं है, तो चिंता की कोई बात नहीं है। आपको आसानी से पर्सनल अकोमोडेशन मिल सकती है।

उपयुक्तता के आधार पर, आप किराए के फ्लैट या साझा कमरे की सुविधा के साथ एक निजी छात्रावास (प्राइवेट हॉस्टल) का विकल्प चुन सकते हैं। निजी आवास चुनने के अपने फायदे हैं। आपको आसानी से 10,000 रुपये तक किराए पर एक कमरा मिल सकता है और इसका खर्च सालाना 1,20,000 रुपये के आसपास आएगा।

अतिरिक्त खर्चों (प्रति सप्ताह) में निम्नलिखित शामिल हैं: 

  • बाहर का खाना: 1500 रुपये से 4500 रुपये

  • पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन: 50 रुपये से 100 रुपये

  • प्राइवेट ट्रांसपोर्टेशन: 500 रुपये से 1000 रुपये

  • अन्य खर्च: 200 रुपये से 500 रुपये

  • फ्री टाइम में की जाने वाली चीज़ों का खर्च: 500 रुपये से 1000 रुपये

इसमें कोई शक नहीं है कि बच्चे का पालन-पोषण करना कोई आसान काम नहीं है। जैसे-जैसे बच्चा बड़ा होता है, वैसे ही उन पर होने वाले खर्चें भी बढ़ जाते हैं।

प्राथमिक शिक्षा (प्राइमरी एजुकेशन): आम तौर पर, यदि कोई छात्र सरकारी स्कूल में 6 से 14 वर्ष की आयु के बीच में पढ़ रहा है, तो शिक्षा की लागत लगभग नगण्य है, कभी-कभी यह लगभग मुफ्त होती है। इसके विपरीत, जब प्राइवेट स्कूल से पढ़ने की बात आती है तो प्राइवेट स्कूल प्रति महीने कम से कम 1200 रुपये से लेकर 2,000 रुपये तक की फीस लेते हैं।

माध्यमिक उच्च शिक्षा (सेकंडरी हायर एजुकेशन): माध्यमिक उच्च शिक्षा में अक्सर 12 से 18 वर्ष की आयु के बच्चे आते हैं। इसलिए, यदि कोई छात्र 6 साल तक सरकारी स्कूल में पढ़ता है तो लगभग 30, 600 रुपये का खर्च आएगा और निजी स्कूलों में माता-पिता को लगभग 3, 96,000 रुपये का भुगतान करना होगा।

यदि बच्चे को बोर्डिंग स्कूल में रखा जाता है, तो माता-पिता को 6 वर्षों के लिए लगभग 18,00,000 रुपये का भुगतान करना होगा। एसोचैम द्वारा किए गए एक सर्वे के अनुसार, 2005 से 2011 तक प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा दोनों के संबंध में महंगाई दर में 169% की वृद्धि हुई है।

भारत में ग्रेजुएशन (स्नातक) और पोस्ट-ग्रेजुएशन (स्नातकोत्तर) शिक्षा का खर्च

  • सरकारी कॉलेज/यूनिवर्सिटी: 5,00,000 रुपये से 6,00,000 रुपये

  • प्राइवेट कॉलेज/यूनिवर्सिटी: 8,00,000 रुपये से 10,00,000 रुपये

  • इंटरनेशनल कॉलेज/यूनिवर्सिटी: 1,00,00,000 रुपये

भारत में मेडिकल स्टडीज़ (चिकित्सा अध्ययन) का खर्च

  • सरकारी कॉलेज/यूनिवर्सिटी: 5,00,000 रुपये से 10,00,000 रुपये

  • प्राइवेट कॉलेज/यूनिवर्सिटी: 18,00,000 रुपये से 20, 00,000 रुपये

  • इंटरनेशनल कॉलेज/यूनिवर्सिटी: 1,00,00,000 रुपये

भारत में कॉमर्स और आर्ट्स/ह्यूमेनिटीज़ (मानविकी) का खर्च

  • सरकारी कॉलेज/यूनिवर्सिटी: 2,000 रुपये से 15,000 रुपये

  • प्राइवेट कॉलेज/यूनिवर्सिटी: 2,50,000 रुपये से 5,00,000 रुपये

  • इंटरनेशनल कॉलेज/यूनिवर्सिटी: 50,000,000 रुपये

भारत में इंजीनियरिंग का खर्च

इंजीनियरिंग के कोर्स को भारत में अधिकांश छात्रों द्वारा किए जाने वाले सबसे अधिक डिमांड वाले करियर विकल्पों में से एक माना जाता है। इसके अलावा, यह प्रतिष्ठित और अच्छी तनख्वाह वाली नौकरियों में से एक भी है। यूएस सिलिकॉन वैली में ज़्यादातर भारतीय इंजीनियर है।

चार साल के इंजीनियरिंग कोर्स के लिए, एक छात्र को 1,25,000 रुपये से लेकर 5,00,000 रुपये तक का खर्च आता है। और जब भारत के बेहतरीन इंजीनियरिंग कॉलेजों जैसे आईआईटी, एनआईटी, बीआईटी पिलानी, आदि की बात आती है, तो माता-पिता को क्रमशः लगभग 10,00,000 रुपये से लेकर 15,00,000 रुपये खर्च करने पड़ते हैं।

पोस्ट ग्रेजुएशन के लिए-

पोस्ट ग्रेजुएशन के लिए भी लगभग इंजीनियरिंग के बराबर ही खर्च आता है।

लगभग सभी मेडिकल छात्रों का सपना एक डॉक्टर बनना होता है। डॉक्टर बनने के लिए बहुत मेहनत और सिंसेरिटी की ज़रूरत होती है और डॉक्टर बनना बहुत गर्व की बात होती है। भारत में, मेडिकल सीटें सीमित हैं और कम्पीटिशन बहुत ज़्यादा है।

फीस-स्ट्रुक्टर और अन्य खर्चों के मामले में, सरकारी कॉलेजों/यूनिवर्सिटी में लगभग 10,00,000 रुपये का खर्च आता है जो कि रिज़नेबल है। हालांकि, प्राइवेट कॉलेजों/यूनिवर्सिटी में, यही फीस लगभग 50,000,000 रुपये तक हो सकती है।

और, यदि आप उसी क्षेत्र में प्राइवेट इंस्टिट्यूट से पोस्ट-ग्रेजुएट की डिग्री हासिल करना चाहते हैं, तो आपको लगभग 30,00,000 रुपये खर्च करने के लिए मानसिक और आर्थिक रूप से स्थिर होना होगा।

जैसा कि पहले चर्चा की गई है, बच्चे की परवरिश करना कोई नम्र व्यक्ति का काम नहीं है और बच्चे को सर्वोत्तम संभव तरीके से पालने के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग अत्यंत महत्वपूर्ण है। यदि माता-पिता के रूप में आप अभी भी फाइनेंशियल प्लानिंग को लेकर श्योर नहीं हैं तो हम आपकी मदद करेंगे।

नीचे दी गई तालिका में बेसिक और आवश्यक शैक्षिक खर्च (एसेंशियल एजुकेशनल एक्सपेंसेस) दिए गए हैं जो एक या दो बच्चों की परवरिश में आते हैं:

खर्च एक बच्चे के लिए वार्षिक खर्च दो बच्चों के लिए वार्षिक खर्च
स्कूल में आने वाले बेसिक खर्च
स्कूल की यूनिफॉर्म ₹ 3,000 ₹ 6,000
ट्रांसपोर्टेशन, लंच और ट्यूशन ₹ 36,000 ₹ 75,000
स्कूल शूज़ ₹ 3500 ₹ 7,000
स्पोर्ट्स किट ₹ 3500 ₹ 7,000
बॉटल्स और बैग ₹ 1800 ₹ 3500
कोर्स बुक्स (पाठ्यक्रम की पुस्तकें) ₹ 4500 ₹ 8500
कंप्यूटर ₹ 2500 ₹ 3800
स्कूल क्लब ₹ 2500 ₹ 4000
स्टेशनरी / न्यूज़पेपर ₹ 3000 ₹ 5600
स्कूल ट्रिप ₹ 3800 ₹ 7000
फेयर (प्रदर्शनी, मेला आदि) ₹ 3500 ₹ 5500
बिल्डिंग फंड ₹ 15,000 முதல் ரூ 25,000 ₹ 30,000
पाठ्येतर गतिविधियाँ (एक्स्ट्रा-करीकुलर एक्टिविटीज़)
प्राथमिक स्तर (प्राइमरी लेवल) ₹ 2,000 ₹ 4,000
माध्यमिक स्तर (सेकेंडरी लेवल) ₹ 4,000 ₹ 8,000
कोचिंग/ट्यूशन एक्सपेंसेस
प्राथमिक स्तर (प्राइमरी लेवल) ₹ 3,000 ₹ 6,000
माध्यमिक स्तर (सेकेंडरी लेवल) ₹ 8,000 ₹ 10,000

बेस्ट चाइल्ड एजुकेशन प्लान कैसे लें?

बीमा प्रदाताओं द्वारा कई चाइल्ड प्लान पेश किए जाते हैं; हालाँकि, आपके बच्चे का अच्छा भविष्य सुनिश्चित करने के लिए बेस्ट चाइल्ड प्लान का चयन करते समय कुछ बातों पर विचार किया जाना चाहिए। नीचे दिए गए टिप्स बच्चे की जरूरतों को पूरा करने के लिए आपको एक सही निर्णय लेने में मदद करेंगे।

  1. जल्दी शुरू करें

    यह सलाह दी जाती है कि आप अपने बच्चे के भविष्य के लिए जितनी जल्दी हो सके निवेश करना शुरू कर दें क्योंकि इससे एक बड़ा कोष बनाने में मदद मिलेगी, और भविष्य में आप आज़ादी से कोई भी वित्तीय निर्णय ले पाएंगे।

    अधिकांश चाइल्ड प्लान मैच्योरिटी बेनिफिट प्रदान करते हैं और बच्चे के 18 वर्ष का होने के बाद जीवन में महत्वपूर्ण पड़ावों पर भुगतान देना शुरू करते हैं। यदि आप जल्दी निवेश करना शुरू करते हैं तो बेस्ट चाइल्ड एजुकेशन प्लान से मिलने वाले लाभ बढ़ जाते हैं।

    इस बात पर पर्याप्त जोर नहीं दिया जा सकता क्योंकि ज्यादातर लोगों को यह एहसास नहीं होता है कि निवेश के प्रत्येक अतिरिक्त वर्ष का मतलब है एक बड़ा कोष होना यानी ज़्यादा राशि होना। जब बच्चा 5 साल या 10 साल का हो जाए तब जाकर चाइल्ड एजुकेशन प्लान लेने का मतलब है कि बाद में उसकी ट्यूशन या कॉलेज की फीस का भुगतान करने के लिए आपको लोन लेना पड़ सकता है।

    मान लीजिए आज चाइल्ड एजुकेशन प्लान लेने की बजाए आप तीन साल बाद चाइल्ड एजुकेशन प्लान लेते हैं तो आपको मिलने वाले रिटर्न में लाखों का अंतर हो सकता है।

  2. इकोनॉमिक वेरिएबल्स के कारकों पर विचार करें

    यह समझना महत्वपूर्ण है कि आपके बच्चे के लिए बचत और निवेश का लाभ आने वाले वर्षों में ही लिया जाएगा। एक उपयुक्त बीमित राशि तय करते समय कई इकोनॉमिक वेरिएबल्स को ध्यान में रखा जाना चाहिए।

    महंगाई दर, शिक्षा की लागत और स्वास्थ्य देखभाल के खर्च में वृद्धि, अन्य आर्थिक कारकों आदि की अगर सही तरीके से गणना की जाए तो भविष्य में बच्चे के लिए पर्याप्त फंड उपलब्ध होगा। बेस्ट चाइल्ड एजुकेशन प्लान इससे निपटने में आपकी मदद कर सकता है।

  3. नियम और शर्तों पर विशेष ध्यान दें

    आपको फाइन प्रिंट की जांच करनी चाहिए और चाइल्ड एजुकेशन प्लान की पॉलिसी दस्तावेजों के नियमों और शर्तों को ठीक से समझना चाहिए। बेस्ट चाइल्ड प्लान में यूनीक फीचर होते हैं और उनकी सही व्याख्या करना महत्वपूर्ण है।

    इससे मैच्योरिटी के समय और/या भुगतान में किसी भी तरह के कन्फ्यूज़न की स्थिति से बचा जा सकेगा।

    इससे व्यक्तिगत आवश्यकताओं के अनुसार बेस्ट एजुकेशन प्लान का चयन करने में भी मदद मिलेगी, जो कि बच्चे की आवश्यकताओं के लिए सर्वोत्तम हो। हमारी साइट का उपयोग करके विभिन्न प्लान्स की विस्तार से तुलना करें और एक ऐसा चाइल्ड एजुकेशन प्लान चुनें जो कि आपकी आवश्यकताओं के अनुरूप हो।

  4. प्रीमियम वेवर बेनिफिट चुनें

    पॉलिसी टेन्योर के दौरान आपकी दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु की स्थिति में, बीमा कंपनियां अक्सर प्रीमियम माफ करने की पेशकश करती हैं। इसे प्रीमियम वेवर बेनिफिट या प्रीमियम की सेल्फ-फंडिंग के रूप में जाना जाता है। यह प्रीमियम भुगतान के लिए बच्चे सहित परिवार को तनाव में डाले बिना पॉलिसी को जारी रखने में मदद करता है।

    बच्चे को मैच्योरिटी पर पूरा लाभ मिलता है, जिसका वादा पॉलिसी खरीदते समय किया गया था। यह सुविधा सामान्य रूप से चाइल्ड प्लान में इनबिल्ट होती है; अगर नहीं, तो आपको इस राइडर के बारे में विचार करना चाहिए।

  5. आंशिक निकासी खंड का विकल्प चुनें

    आपात स्थिति किसी भी समय आ सकती है और एमर्जेन्सी कैश की आवश्यकता वाली स्थितियों से निपटने के लिए बच्चे को वित्तीय सहायता की आवश्यकता पड़ सकती है। आंशिक निकासी (पार्शियल विड्रॉल) का प्रावधान अप्रत्याशित खर्चों को पूरा करने के लिए बेस्ट चाइल्ड एजुकेशन प्लान से आंशिक राशि की निकासी की अनुमति देता है।

    इससे किसी भी आपात स्थिति में परिवार या बच्चे की शिक्षा या सपनों को लेकर किसी भी प्रकार की वित्तीय अस्थिरता पैदा होने को रोका जा सकता है। आंशिक निकासी से आपकी फाइनेंशियल प्लानिंग बाधित नहीं होती और एमर्जेन्सी सिचुएशन से निपटने के लिए आपको अपनी नियमित आय से भी कुछ खर्च करने की ज़रूरत नहीं पड़ती।

  6. फंड का चुनाव

    चाइल्ड प्लान आमतौर पर पॉलिसीधारकों से एकत्र किए गए फंड को पूंजी बाजार में निवेश करते हैं ताकि हाई रिटर्न अर्जित किया जा सके। हालांकि, वे बीमाधारक या पॉलिसीधारक को व्यक्तिगत निवेश की क्षमता और जोखिम लेने की क्षमता के आधार पर अपने पैसे का निवेश करने के लिए फंड के प्रकार को चुनने का विकल्प प्रदान करते हैं।

    जोखिम से बचने वाले लोग चाहते हैं कि उनके फंड को डेट में आवंटित किया जाए, जो बाजार की अस्थिरता के खिलाफ अधिक स्थिरता प्रदान करता है। जो लोग निवेश पर अधिक लाभ अर्जित करना चाहते हैं, उनके निवेश को इक्विटी में इन्वेस्ट करना सही रहता है।

    सिस्टेमैटिक ट्रांसफर प्लान और डायनेमिक फंड एलोकेशन जैसे निवेश के विकल्प बाजार की अस्थिरता के खिलाफ निवेश को सुरक्षित रखने में मदद करते हैं। ये चाइल्ड प्लान शुरुआती वर्षों में इक्विटी-ओरिएंटेड फर्मों में पैसा लगाकर और बाद के वर्षों में अधिक सुरक्षित डेट फंड में स्विच करके स्टेबल ग्रोथ के लिए हाई रिटर्न इंवेस्टमेंट्स की अनुमति देते हैं।

    अधिकांश बीमा कंपनियां यह सुनिश्चित करती हैं कि फंड एलोकेशन स्वचालित हो और माता-पिता को अपने बच्चों के आगामी भविष्य के खर्चों को पूरा करने के लिए महत्वपूर्ण पूंजी की सुरक्षा के बारे में चिंता करने की आवश्यकता न हो।

    ये टिप्स केवल कुछ पॉइंटर्स हैं, जो बेस्ट चाइल्ड प्लान चुनने में मदद करेंगे। जितना जल्दी आप निवेश करना शुरू करते हैं उतना जल्दी आपके बच्चे का भविष्य सुरक्षित होगा। साथ ही, हमारी साइट और बीमा कंपनियों की वेबसाइटों पर चाइल्ड प्लान के बारे में पढ़कर आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आप सही प्लान चुनने से पहले प्लान के बारे में अच्छी तरह से जानते हैं।

  7. सावधानी बरतें

    आपके द्वारा गए बेस्ट चाइल्ड प्लान के लिए एक विश्वसनीय नियुक्त व्यक्ति का चयन करना महत्वपूर्ण है। आपका नियुक्त व्यक्ति वह होना चाहिए जिसके साथ आपका एक मजबूत संबंध हो और जिस पर आप भरोसा कर सकते हैं, क्योंकि जब आप अनुपस्थित हों तो आपके बच्चे का ध्यान रखा जाना चाहिए।

    एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना के मामले में, जब तक बच्चा मैच्योर नहीं हो जाता और बीमित राशि के एकमुश्त भुगतान को संभालने में सक्षम नहीं हो जाता, तब तक नियुक्तिकर्ता द्वारा क्लेम की राशि प्राप्त की जाती है। यदि नियुक्त व्यक्ति बच्चे की देखभाल करने में विफल रहता है और अत्यधिक लापरवाह हो जाता है, तो इस बात की संभावना है कि बच्चे की उस उम्र तक पहुँचने से पहले ही उसकी राशि समाप्त हो जाए, जब उसे इसकी सबसे अधिक आवश्यकता होती है।

    इसलिए, पॉलिसी के लिए नियुक्त व्यक्ति को चुनने से पहले आपको सोच-समझकर निर्णय लेना चाहिए।

  8. उदाहरण

    आपने अपने 6 साल के बच्चे के लिए 10 साल की पॉलिसी अवधि वाला बेस्ट चाइल्ड प्लान खरीदा है और आपको 20,000,000 रुपये का मैच्योरिटी बेनिफिट मिलने की उम्मीद है। आपने 25,00,000 रुपये के लाइफ कवर का विकल्प चुना। दुर्भाग्य से, पॉलिसी शुरू होने के 4 साल बाद आपकी मृत्यु हो जाती है। बीमाकर्ता नियुक्त व्यक्ति को 25, 00,000 रुपये की राशि का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी है और शेष पॉलिसी अवधि के लिए भुगतान किए जाने वाले प्रीमियम को भी वहन करने के लिए उत्तरदायी है, अर्थात 6 वर्षों के लिए। 16 वर्ष की आयु तक पहुंचने पर बच्चे को 20,00,000 रुपये का मैच्योरिटी बेनिफिट भी मिलेगा।

देरी की लागत (कॉस्ट ऑफ़ डिले)

तो, अगर आपका बच्चा 5 साल का है। आइए देखें कि अगर आप अगले साल के बजाय आज से पैसे बचाना शुरू करते हैं तो देरी की लागत क्या होगी।

निम्नलिखित मूल्यों की गणना रिटर्न की 9% अपेक्षित दर के आधार पर की गई है।

मासिक निवेश निवेश की अवधि मैच्योरिटी वैल्यू एक वर्ष की देरी पर मैच्योरिटी वैल्यू देरी की लागत (कॉस्ट ऑफ़ डिले)
10,000 10 1935143 1654832 280311
10,000 15 3784058 3345181 438877

हमें आपकी सहायता करने का मौका दें

पॉलिसीबाजार में, हम आप जैसे माता-पिता को आपके बच्चों के उज्ज्वल भविष्य को सुनिश्चित करने में मदद करने पर गर्व महसूस करते हैं। हर बच्चा अलग होता है और उसकी बीमा की जरूरतें भी अलग होती है। हो सकता है कि आपके बच्चे भविष्य में आइंस्टीन या तेंदुलकर जैसे बन जाएं। सुनिश्चित करें कि मौका मिलने पर आप आर्थिक रूप से अपने बच्चे को मौके का फायदा उठाने का मौका दें।

आपके बजट और ज़रूरतों के अनुसार चाइल्ड प्लान कई प्रकार के हैं; इसलिए आपको विभिन्न बीमाकर्ताओं द्वारा पेश किए जाने वाले प्लान्स को कम्पेयर करना चाहिए। ऑनलाइन कम्पेयर करने से आपके लिए अपनी विशिष्ट आवश्यकताओं के साथ प्लान्स को मैच करना और बेस्ट चाइल्ड एजुकेशन प्लान को चुनना आसान हो जाता है।

जब आपके बच्चे के सुरक्षित भविष्य के लिए बचत करने की बात आती है तो आपके लिए कई विकल्प मौजूद हैं। निम्न तालिका में तीन अलग-अलग प्रकार के बचत के तरीकों की तुलना की गई है:

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

  • प्रश्न: चाइल्ड प्लान की खास बात क्या है?

    उत्तर: चाइल्ड एजुकेशन प्लान मैच्योरिटी बेनिफिट के साथ-साथ जीवन बीमा कवर का व्यापक लाभ प्रदान करता है। यह सेफ्टी नेट के रूप में कार्य करता है जो यह सुनिश्चित करता है कि पैसे की कमी के कारण बच्चे की शिक्षा प्रभावित न हो। चाइल्ड एजुकेशन प्लान के साथ, बच्चे को उसकी शिक्षा के लिए एकमुश्त भुगतान प्राप्त होगा।
    चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान का मुख्य पहलू यह है कि माता-पिता/अभिभावक की मृत्यु की स्थिति में भविष्य के प्रीमियम का भुगतान बीमा कंपनी द्वारा किया जाएगा। पॉलिसी अवधि के अंत में बच्चे को संबंधित मैच्योरिटी बेनिफिट का भुगतान किया जाएगा।
  • प्रश्न: चाइल्ड प्लान कितने प्रकार के होते हैं?

    जवाब: निम्नलिखित प्रकार के चाइल्ड प्लान उपलब्ध हैं:
    • सेविंग्स प्लान: इसके तहत प्लान बाजार में निवेश नहीं करता है। एक व्यक्ति या तो नियमित प्रीमियम का या सीमित अवधि के लिए भुगतान करता है और पॉलिसी अवधि के अंत में, गारंटीकृत भुगतान प्रत्येक वर्ष प्राप्त होता है।

    • निवेश योजना: ये योजनाएँ डेट-इक्विटी मार्केट में निवेश करती हैं जहाँ प्रीमियम का भुगतान नियमित रूप से या सीमित अवधि के लिए किया जाता है, जिसे बाद में डेट और इक्विटी इंस्ट्रूमेंट्स में इन्वेस्ट किया जाता है। चूंकि यह मार्केट-लिंक्ड है, ऐसे चाइल्ड प्लान लंबी अवधि में अच्छा रिटर्न देते हैं।

    वित्तीय जोखिम की लेने की क्षमता के आधार पर, आप अलग-अलग रिस्क वाले फंड विकल्पों में से चुन सकते हैं।

  • प्रश्न: चाइल्ड एजुकेशन प्लान क्या है?

    जवाब: चाइल्ड प्लान एक प्रकार का बीमा कम इन्वेस्टमेंट विकल्प है, जो किसी व्यक्ति को पॉलिसी अवधि के दौरान बच्चे के भविष्य के लिए एक कोष बनाने में सक्षम बनाता है। मैच्योरिटी पर, चाइल्ड प्लान को एकमुश्त राशि प्राप्त होगी जिसका उपयोग बच्चे की शिक्षा और इसके आगे के खर्चों का भुगतान करने के लिए किया जा सकता है। ऐसी योजनाओं में बीमा कवर राशि प्रीमियम भुगतान की गई राशि का न्यूनतम 10 गुना होती है।
    यदि पॉलिसी के लागू रहने के दौरान पॉलिसीधारक की मृत्यु हो जाती है, तो बच्चे या नामांकित व्यक्ति को पॉलिसी खरीदते समय किए गए वादे के अनुसार डेथ बेनिफिट प्राप्त होगा।
  • प्रश्न: चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान खरीदना कितना महत्वपूर्ण है?

    जवाब: कोई भी माता-पिता जो अपने बच्चों के उज्ज्वल भविष्य से समझौता नहीं करना चाहते हैं और अपने वित्तीय भविष्य को सुरक्षित करना चाहते हैं, उन्हें चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान खरीदने पर विचार करना चाहिए। नीचे कुछ प्रमुख कारण सूचीबद्ध किए गए हैं कि क्यों बच्चे के लिए ऐसी पॉलिसी ली जानी चाहिए। 
    • कॉलेट्ररल के रूप में उपयोग करें: यदि माता-पिता को भविष्य में बच्चे के लिए एजुकेशन लोन लेने की आवश्यकता है, तो चाइल्ड प्लान को कॉलेट्ररल के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

    • हायर एजुकेशन को फंड करें: चाइल्ड एजुकेशन प्लान के माध्यम से निर्मित कोष (कॉर्पस) का उपयोग निजी ट्यूशन, हॉस्टल आवास, विदेशी राष्ट्र में अध्ययन आदि के लिए किया जा सकता है।

    • चिकित्सा उपचार: यदि किसी दुर्घटना या किसी अन्य चिकित्सा स्थिति के कारण बच्चा अस्पताल में भर्ती हो जाता है, तो चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान अभी तक मैच्योर होने वाली पॉलिसी से एकमुश्त राशि निकालने की अनुमति देती है।

    • टैक्स बेनिफिट्स: चाइल्ड प्लान के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम पर आईटी एक्ट की धारा 80 सी के तहत टैक्स छूट मिलती है। मैच्योरिटी बेनिफिट भी धारा 10 (10डी) के अनुसार कर मुक्त हैं।

    नोट: कर लाभ कर कानूनों में परिवर्तन के अधीन है

  • प्रश्न: चाइल्ड प्लान से पैसे कब निकाले जा सकते हैं?

    जवाब: पॉलिसी के 5 साल बाद और पॉलिसी की अवधि समाप्त होने से पहले किसी भी समय पूरी राशि आसानी से निकाली जा सकती है। चाइल्ड प्लान के साथ आंशिक निकासी की भी अनुमति है जिसका उपयोग आप अपने बच्चे की लिक्विडिटी नीड्स के लिए कर सकते हैं।
  • प्रश्न: क्या चाइल्ड प्लान से होने वाली आय टैक्स-फ्री है?

    जवाब: हां, चाइल्ड प्लान से निकाला गया पैसा और मृत्यु या मैच्योरिटी पर मिलने वाला पैसा पूरी तरह से टैक्स फ्री होता है। नीचे जानकारी दी गई है कि आप टैक्स बेनिफिट को कैसे क्लेम कर सकते हैं:
    • आईटी अधिनियम की धारा 80सी के तहत कर कटौती: एक वित्तीय वर्ष के दौरान बेस्ट चाइल्ड एजुकेशन प्लान के लिए देय प्रीमियम आईटी अधिनियम, 1961 की धारा 80 सी के तहत कर कटौती के लिए पात्र हैं। कर योग्य आय की गणना करते समय आप 1.5 लाख रुपये तक की कर कटौती का लाभ उठा सकते हैं। आईटी अधिनियम, 1961। कर योग्य आय की गणना करते समय आप 1.5 लाख रुपये तक की कर कटौती का लाभ उठा सकते हैं।

    • आईटी अधिनियम की धारा 10 (10डी) के तहत कर कटौती: आईटी अधिनियम, 1961 की धारा 10 (10डी) के तहत योजनाओं के भुगतान पर कर छूट के साथ-साथ मैच्योरिटी बेनिफिट, डेथ बेनिफिट, बोनस, दी गई वित्तीय सहायता और सहायता जैसे लाभ।

  • प्रश्न: चाइल्ड एजुकेशन प्लान कब खरीदें?

    जवाब: आदर्श रूप से, आपको अपने बच्चे के जन्म के तुरंत बाद बेस्ट चाइल्ड एजुकेशन प्लान ले लेना चाहिए। फिर भी, चाइल्ड एजुकेशन प्लान तभी खरीदें जब आपको निम्नलिखित चीज़ों की समझ हो:
    • नॉलेज- महंगाई दर बढ़ती लागतों का एक पूर्ववृत्त है और इस तरह की बढ़ती लागत के चलते आप बचत नहीं कर पाते हैं। यहां तक ​​कि अगर आप बचत करने का प्रबंधन करते हैं, तो ऐसी बचत का उपयोग अंततः वित्तीय आकस्मिकताओं में किया जाता है जब आपकी बचत विशिष्ट कारणों को पूरा करने के लिए आवंटित नहीं की जाती है।

    • प्लान टाइप - चाइल्ड प्लान दोनों प्रकार के बीमा प्रकारों में आते हैं, अर्थात् यूनिट-लिंक्ड बीमा योजना और पारंपरिक योजनाएँ। यह आपको तय करना है कि आप बाजार के जोखिमों का अनुभव करना चाहते हैं और बेहतर रिटर्न प्राप्त करना चाहते हैं या गारंटीकृत रिटर्न के लिए एक पारंपरिक योजना में निवेश करना चाहते हैं।

    • लाभ - एक बार जब आप यह तय कर लेते हैं कि आप किस प्रकार का प्लान खरीदना चाहते हैं, तो आपको प्लान के लाभों की तुलना करनी चाहिए। गहन शोध करें और पता करें कि पॉलिसी के डेथ बेनिफिट और मैच्योरिटी बेनिफिट क्या हैं। साथ ही, पता करें कि क्या यह प्लान किसी बोनस के साथ आता है, अगर यह एक ट्रेडिशनल चाइल्ड पॉलिसी है।

    पता लगाएँ कि क्या यूलिप प्लान्स में गारंटीकृत एडिशन्स जैसी कोई विशेष सुविधा है। गारंटीकृत एडिशन्स और बोनस अर्जित वित्तीय कोष को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और इस पर उचित ध्यान दिया जाना चाहिए।

  • प्रश्न: क्या मैं अपने 15 वर्षीय बच्चे के लिए चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान खरीद सकता हूं?

    जवाब: हां, आप अपने 15 साल के बच्चे के लिए चाइल्ड प्लान दो तरीकों से खरीद सकते हैं - ऑफलाइन और ऑनलाइन। ऑफलाइन मोड में, आपको बीमाकर्ता के बीमा एजेंट के साथ बैठक करने या बीमाकर्ताओं के कार्यालय जाने की आवश्यकता होती है। या आप बीमा वेब एग्रीगेटर्स और बीमा कंपनियों की वेबसाइट पर जा सकते हैं।
  • प्रश्न: नामांकित व्यक्ति (नॉमिनी) और लाभार्थी (बेनेफिशरी) के बीच क्या अंतर है?

    उत्तर: जैसा कि नाम से पता चलता है, चाइल्ड पॉलिसी में नामांकित व्यक्ति वह व्यक्ति होता है जिसे बीमित व्यक्ति द्वारा उसकी मृत्यु के बाद उसकी संपत्ति, वित्तीय रिकॉर्ड आदि की देखभाल के लिए नियुक्त या नामांकित किया जाता है। नामांकित व्यक्ति कानूनी उत्तराधिकारी के बीच लाभ या कमाई के वितरण के लिए जिम्मेदार हो जाता है। चाइल्ड एजुकेशन प्लान में लाभार्थी वह व्यक्ति होता है जिसका पॉलिसीधारक के जीवन में वित्तीय हित होता है। लाभार्थी या तो बैंक की तरह एक वित्तीय संस्थान हो सकता है जो बीमाधारक या कानूनी उत्तराधिकारियों को वित्त/ऋण प्रदान करता है। कुछ मामलों में, लाभार्थी और नामांकित व्यक्ति एक ही व्यक्ति हो सकते हैं।
  • प्रश्न: चाइल्ड प्लान में लाभार्थी या नामांकित व्यक्ति क्यों महत्वपूर्ण है?

    जवाब: लाभार्थी एक चाइल्ड प्लान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। माता-पिता की मृत्यु होने पर सारा पैसा लाभार्थी को जाता है। इसलिए, यह वास्तव में महत्वपूर्ण है कि आप लाभार्थी की भूमिका को ठीक से जानें और समझें। एक बार जब आप इन सभी चीज़ों के बारे में जागरूक हो जाते हैं, तो लाभार्थी को बुद्धिमानी से चुनें यदि आप चाहते हैं कि आय आपके बच्चे को मिले और इसका दुरुपयोग न हो।
  • प्रश्न: मैं सही चाइल्ड एजुकेशन प्लान कैसे चुन सकता / सकती हूं?

    जवाब: आपको नीचे दिए गए कारकों पर ध्यान से विचार करने के बाद सही और सर्वोत्तम बाल शिक्षा योजना का चयन करना चाहिए:
    • प्रीमियम वेवर बेनिफिट

    • आपकी मासिक बचत

    • बच्चों की संख्या

    • पर्याप्त कवर

    • महंगाई दर

    • बाजार की स्थिति

  • प्रश्न: क्या मैं अपने बच्चे को अपने हेल्थ प्लान में शामिल कर सकता / सकती हूँ?

    जवाब: हां, आप अपने जीवनसाथी के साथ अपने बच्चे को हेल्थ प्लान में शामिल कर सकते हैं। आपको अपनी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में परिवार के किसी सदस्य को शामिल करने के लिए अतिरिक्त प्रीमियम का भुगतान करना होगा।
  • प्रश्न: बच्चे का बीमा कराने में कितना खर्चा आता है?

    जवाब: प्रीमियम की राशि कई कारकों पर आधारित होगी जैसे कि पॉलिसी की अवधि, आयु, बीमित राशि, आदि।
  • प्रश्न: क्या मैं केवल अपने बच्चे के लिए हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीद सकता / सकती हूं?

    जवाब: हां, कुछ ऐसी पॉलिसीज़ भी हैं जो केवल बच्चों के लिए बनाई गई हैं जिसमें कोई अभिभावक या माता-पिता शामिल नहीं हैं। हालांकि, पॉलिसीधारक की आयु 18 वर्ष या उससे कम होनी चाहिए।
  • प्रश्न: चाइल्ड लाइफ कवरेज का क्या अर्थ है?

    जवाब: चाइल्ड लाइफ कवरेज मृत्यु पर बीमित राशि है जो पॉलिसीधारक की मृत्यु की स्थिति में नामांकित व्यक्तियों को दी जाती है।
  • प्रश्न: आपको चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान किसके लिए लेना चाहिए?

    जवाब: यदि आपके बच्चे की आयु 0 से 15 वर्ष के बीच है, तो आपको अपने बच्चे के लिए चाइल्ड प्लान अवश्य खरीदना चाहिए। इसके अलावा, कोई भी व्यक्ति जो आपके बच्चे की शिक्षा के लिए वित्तीय कोष बनाना चाहता है और नियमित निवेश के माध्यम से महंगाई दर को मात देना चाहता है, उसे बाल बीमा योजना का विकल्प चुनना चाहिए।
  • प्रश्न: चाइल्ड इंश्योरेंस पॉलिसी आपके बच्चे के भविष्य को कैसे सुरक्षित कर सकती है?

    जवाब: चाइल्ड प्लान आपके बच्चे के भविष्य को निम्नलिखित तरीकों से सुरक्षित करता है: 
    • आपके बच्चे के जीवन के सबसे महत्वपूर्ण वर्षों के दौरान वित्तीय सुरक्षा प्रदान करता है।

    • केवल एक ही प्लान में बचत और निवेश का एक कॉम्बो प्रदान करता है।

    • आपके न रहने पर भी आपके बच्चे के भविष्य की रक्षा करता है।

    • दीर्घकालिक, अनुशासित तरीके से बचत करने में मदद करता है जो अन्यथा एक चुनौती भरा काम होता है।

top
View Plans
Close
Download the Policybazaar app
to manage all your insurance needs.
INSTALL