एसबीआई सुकन्या समृद्धि योजना

SBI सुकन्या समृद्धि योजना एक सरकार समर्थित योजना है जो विशेष रूप से परिवार में बालिकाओं के लिए डिज़ाइन की गई है।   यह योजना बालिकाओं के माता-पिता/अभिभावकों को उनकी भविष्य की शिक्षा और शादी के खर्च के लिए एक सुरक्षा बनाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए शुरू की गई है।   यह जानना महत्वपूर्ण है कि यह योजना केवल बालिका के माता-पिता या कानूनी अभिभावक द्वारा खोली जा सकती है जब तक कि बालिका दस वर्ष की आयु तक नहीं पहुंच जाती।

Read more
Best Child Saving Plans
  • Insurer pays your premiums in your absence

  • Invest ₹10k/month and your child gets ₹1 Cr tax free*

  • Save upto ₹46,800 in tax under Section 80(C)

*All savings are provided by the insurer as per the IRDAI approved insurance plan. Standard T&C Apply

Nothing Is More Important Than Securing Your Child's Future

Invest ₹10k/month your child will get ₹1 Cr Tax Free*

+91
View Plans
Please wait. We Are Processing..
Plans available only for people of Indian origin By clicking on "View Plans" you agree to our Privacy Policy and Terms of use #For a 55 year on investment of 20Lacs #Discount offered by insurance company Tax benefit is subject to changes in tax laws
Get Updates on WhatsApp

एसबीआई सुकन्या योजना भारत सरकार द्वारा शुरू किए गए "बेटी बचाओ - बेटी पढाओ" योजना का एक हिस्सा है।

एसबीआई की सुकन्या समृद्धि योजना खाताधारक को इनकम टेक्स बेनिफिट्स भी प्रदान करती है। 1.5 लाख रुपये तक की राशि के लिए इनकम टेक्स डिडक्शन धारा 80सी के तहत उपलब्ध है। यह अन्य कम बचत योजनाओं की तुलना में अधिक ब्याज दर भी प्रदान करती है।

एसबीआई सुकन्या योजना की विशेषताएं:

  • जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, समृद्धि खाता पसंद करता है एसबीआई केवल बालिका के माता-पिता या कानूनी अभिभावक द्वारा खोला जा सकता है। यह भी ध्यान देना महत्वपूर्ण है कि यह खाता अधिकतम दो बालिकाओं के लिए भी खोला जा सकता है। ऐसे कुछ मामले हैं जैसे जुड़वां या तीन बच्चों के मामले में जहां खाताधारक अगर प्रमाणित चिकित्सा संस्थान से चिकित्सा प्रमाण पत्र प्रस्तुत करे तो एग्जेम्पशंस प्रदान किए जाते है।
  • SBI सुकन्या योजना के लिए आयु मानदंड बालिका के जन्म से लेकर 10 वर्ष की आयु तक है।
  • यह योजना केवल उन बालिकाओं के लिए मान्य है जो भारत की निवासी हैं। इसका मतलब है कि सुकन्या समृद्धि योजना एसबीआई उन बालिकाओं के लिए उपलब्ध नहीं है जोे अनिवासी भारतीय है। यह सुविधा इस तथ्य के बावजूद मान्य है कि बालिकाओं के माता-पिता/कानूनी अभिभावक भारत के निवासी हैं।
  • यदि कोई बालिका एसबीआई सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के बाद अनिवासी बन जाती है, तो उसके माता-पिता को संबंधित एसबीआई शाखा को इस बदलाव के बारे में 1 महीने के भीतर सूचित करना होगा। इसके बाद खाता बंद कर दिया जाएगा।
  • एसबीआई सुकन्या योजना खाता केवल बालिका के नाम पर खोला जा सकता है, न कि उसके माता-पिता/कानूनी अभिभावकों के नाम पर।
  • एक बालिका केवल एक खाता खोला जा सकता है। इसके अलावा, एक परिवार में दो बालिकाओं के लिए अधिकतम केवल 2 खाते ही खोले जा सकते हैं।
  • सुकन्या योजना एसबीआई का लाभ न्यूनतम रु. 250 की राशि प्रति खाता जमा करके लिया जा सकता है;  जबकि, अधिकतम राशि की सीमा प्रति खाता 1.50 लाख रुपये तक है। साथ ही, एक खाताधारक एक महीने या एक वित्तीय वर्ष में कितनी राशि जमा करना चाहता है, इसकी कोई सीमा निर्धारित नहीं है।

न्यूनतम जमा आवश्यकताओं को पूरा करने में विफलता के मामले में 50 रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है।

  • एसबीआई सुकन्या योजना के लिए भुगतान चेक या डिमांड ड्राफ्ट (डीडी) मोड के माध्यम से किया जा सकता है। डीडी या चेक एसबीआई के संबंधित प्रबंधक के नाम से बनाया जाना चाहिए।

माता-पिता/अभिभावक के लिए भुगतान करते समय डीडी या चेक के पीछे बालिका का नाम और संबंधित खाता संख्या लिखना महत्वपूर्ण है।

  • योजना के तहत दिए जाने वाले ब्याज का वर्तमान दर 8.6% (वित्त वर्ष 2018-19 के लिए) है। खाते पर अर्जित ब्याज वार्षिक आधार पर कंपाउंड होता है।
  • एसबीआई सुकन्या समृद्धि योजना में माता-पिता या अभिभावक को भुगतान करने के लिए अधिकतम अवधि 14 वर्ष है। एक बार जब खाताधारक 14 साल की अवधि के लिए भुगतान कर देता है, तो उसे खाते में कोई और पैसा जमा करने की आवश्यकता नहीं होती। खाते के बंद होने या परिपक्व होने तक उसमे ब्याज जमा होता रहेगा।
  • एसबीआई कीे समृद्धि योजना पसंद को खाता खोलने की तारीख से अधिकतम 21 साल तक चालू रखा जा सकता है। 21 साल की इस अवधि के बाद एसबीआई सुकन्या योजना खाते पर अब कोई ब्याज नहीं लगता है।
  • एसबीआई सुकन्या समृद्धि योजना जब 21 साल का कार्यकाल पूरा करने के बाद परिपक्वता प्राप्त कर ले फिर उसे बंद किया जा सकता है। एसएसवाई खाते में जमा राशि के साथ जमा हुए ब्याज का भुगतान बालिका के 18 वर्ष के हो जाने के बाद किया जाता है।
  • इस राशि को प्राप्त करने के लिए, आवेदकों को पहचान और पते के प्रमाण के साथ एक खाता बंद करने का आवेदन प्रस्तुत करना होगा। उन्हें अपना निवास और नागरिकता का प्रमाण भी जमा करना होगा।
  • परिपक्वता राशि के साथ ही एसबीआई सुकन्या समृद्धि योजना खाते पर अर्जित ब्याज,अतिरिक्त सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ के रूप में इनकम टेक्स एक्ट, 1961 की धारा 80सी के तहत टेक्स एग्जेम्पशन के लिए मान्य है। एसएसवाय खाता ईईई टेक्स रेजीम का पालन करता है। इसे एग्जेम्प्ट-एग्जेम्प्ट-एग्जेम्प्ट टेक्स रेजीम के रूप में भी जाना जाता है।

*इंश्योरर द्वारा प्रदान की गई सभी सेविंग्स IRDAI द्वारा अनुमोदित इंश्योरेंस प्लान के अनुरूप हैं। मानक नियम एवं शर्तें लागू

*इंश्योरर द्वारा प्रदान की गई सभी सेविंग्स IRDAI द्वारा अनुमोदित इंश्योरेंस प्लान के अनुरूप हैं। मानक नियम एवं शर्तें लागू

एसबीआई सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज-

  • बालिका का जन्म प्रमाण पत्र
  • माता-पिता/कानूनी अभिभावक का पहचान और पते का प्रमाण जैसे पान कार्ड, आधार कार्ड, राशन कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, आदि।
  • बालिका और उसके माता-पिता (आवेदक) का फोटोग्राफ
  • यदि जुड़वां या तीन बच्चे हैं, तो आवेदक को बच्चों के जन्म क्रम को साबित करने के लिए एक चिकित्सा प्रमाण पत्र जमा करना होगा।
  • आवेदक को एक प्रमाण पत्र भी जमा करना होगा जो बालिका के साथ उसके संबंधों का रूप दर्शाता हो। उन मामलों के लिए, जहां बालिका के जैविक माता-पिता खाता खोल रहे हैं, जन्म प्रमाण पत्र इस आवश्यकता को पूरा करने के लिए पर्याप्त होगा। हालांकि, गोद ली गई बालिकाओं के मामलों में, यह प्रमाण पत्र जमा करना आवश्यक हो जाता है।

*इंश्योरर द्वारा प्रदान की गई सभी सेविंग्स IRDAI द्वारा अनुमोदित इंश्योरेंस प्लान के अनुरूप हैं। मानक नियम एवं शर्तें लागू

*इंश्योरर द्वारा प्रदान की गई सभी सेविंग्स IRDAI द्वारा अनुमोदित इंश्योरेंस प्लान के अनुरूप हैं। मानक नियम एवं शर्तें लागू

सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने की चरणबद्ध प्रक्रिया:

  • आवेदक को अकाउंट फॉर्म में विवरण भरना होगा।
  • इसके बाद, उन्हें आवश्यक दस्तावेजों के साथ निर्दिष्ट अधिकारी को फॉर्म जमा करना होगा।
  • दस्तावेज जमा करने के बाद, उन्हें न्यूनतम राशि  रु.1000 कैश में जमा करने होंगें।
  • एक बार खाता खुल जाने के बाद, आवेदक पैसे कैश या चेक या डिमांड ड्राफ्ट (डीडी) फॉर्म के माध्यम से जमा करना जारी रख सकते हैं।

एसबीआई सुकन्या समृद्धि योजना का विवरण एक नज़र में:

अनुमत खातों की अधिकतम संख्या

2 बालिकाएँ (या जुड़वाँ या तीन बच्चों के मामले में 3)

न्यूनतम और अधिकतम जमा राशि

एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम जमा राशि 1,000 रुपये और अधिकतम सीमा 1.5 लाख रुपये है

जमा अवधि

खाते के खुलने की तारीख से लेकर 21 वर्ष तक

ब्याज दर

8.6%

टेक्स रिबेट

इनकम टेक्स एक्ट, 1961 की धारा 80सी के तहत

निष्‍कर्ष:

कुल मिलाकर, एसबीआई सुकन्या समृद्धि योजना आपको अपनी बालिकाओं के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए एक वित्तीय सुरक्षा बनाने में मदद करती है। यह कम बचत योजना माता-पिता और कानूनी अभिभावकों को अपनी बालिकाओं की परवरिश और शिक्षा पर समान रूप से ध्यान केंद्रित करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए डिज़ाइन की गई है।

यह सुनिश्चित करती है कि माता-पिता को अपनी बालिकाओं की शिक्षा और विवाह की योजना बनाते समय ज़्यादा बोझ न लगे। इसके अतिरिक्त, यह एसबीआई सुकन्या योजना माता-पिता को योजना में किए गए उनके निवेश पर टेक्स एग्जेम्पशन का लाभ उठाने में भी मदद करती है।

अक्‍सर पूछे जाने वाले प्रश्‍न

  • Q1. एसबीआई का सुकन्या समृद्धि योजना खाता ऑनलाइन कैसे खोलें?

    उत्तर: एसबीआअई सुकन्या समृद्धि योजना खाता बिना किसी परेशानी के आसानी से खोला जा सकता है। कोई भी व्यक्ति जिसका एसबीआई में सेविंग्स बैंक खाता नहीं है, वह भी केवल निम्नलिखित दस्तावेज जमा करके सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोल सकता है:
    • बालिका के जन्म का प्रमाण पत्र
    • बालिका का पासपोर्ट साइज फोटो
    • माता-पिता या अभिभावक का पहचान प्रमाण
    • माता-पिता या अभिभावक का पता प्रमाण
    एसबीआई सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के लिए आवेदन पत्र भरें। फोटोग्राफ के साथ सभी आवश्यक दस्तावेज संलग्न करें। न्यूनतम पहली राशि जमा करें। बैंक द्वारा वेरिफिकेशन विधिवत रूप से पूरा हो जाने के बाद, एसबीआई एसएसवाई खाता खोला जाएगा।
  • Q2. क्या माता-पिता के लिए सुकन्या समृद्धि खाते से पैसे निकालना संभव है?

    उत्तर: सुकन्या समृद्धि खाते के 21 वर्ष पूरे होने पर, शेष राशि को ब्याज सहित निकाला जा सकता है। सुकन्या समृद्धि खाता परिपक्व होने पर एक्रूड ब्याज सहित संचित शेष राशि का भुगतान नॉमिनी को किया जाएगा। यदि 21 वर्षों के बाद शेष राशि नहीं निकाली जाती है, तो इस कुल राशि पर कोई ब्याज नहीं मिलेगा।
    एक व्यक्ति विवाह या बच्चे की शिक्षा जैसे कारणों के लिए आंशिक रूप से पैसे निकलने का विकल्प चुन सकता है और वह भी सुकन्या समृद्धि खाते की शेष राशि का 50% तक।   यदि उच्च शिक्षा के लिए पैसे निकले जाते है, तो खाताधारक की आयु 18 वर्ष होनी चाहिए और उसे कक्षा 10 में उत्तीर्ण होना चाहिए। प्रमाण के रूप में संबंधित अन्य दस्तावेजों के साथ संबंधित शैक्षणिक संस्थान का प्रवेश स्वीकृति पत्र प्रस्तुत करने की आवश्यकता है। दूसरी ओर, यदि कारण विवाह है, तो पैसे निकलने की अनुमति केवल तभी दी जाती है जब लड़की 18 वर्ष की हो चुकी हो क्योंकि देश में लड़की की शादी के लिए कानूनी 18 वर्ष है।
  • Q3. क्या एसबीआई में सुकन्या समृद्धि योजना खोलने के लिए आवेदक के पास मौजूदा खाता होना चाहिए?

    उत्तर: इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आवेदक का एसबीआई में खाता है या नहीं; वह फिर भी उपरोक्त दस्तावेज प्रदान करके बालिका के नाम पर ऐसेस्वाय के तहत एक नया खाता खोल सकते है।
  • Q4. एसबीआई सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के लिए आवश्यक न्यूनतम जमा राशि क्या है?

    उत्तर: एसबीआई सुकन्या योजना खाता खोलने के लिए न्यूनतम राशि  रु. 1000 है। एक बार जब आप एक खाता खोल लेते हैं, तो आप पूरे वर्ष में जितनी बार चाहें उतनी बार 100 रुपये या उससे अधिक राशि जमा करके इसे जारी रख सकते हैं।
  • Q5. एसबीआई शाखा में सुकन्या समृद्धि योजना खोलने के लिए आपको किससे संपर्क करना चाहिए?

    उत्तर: एसबीआई शाखा में निर्दिष्ट अधिकारी हैं जो एसबीआई सुकन्या समृद्धि योजना खाते खोलने के लिए जिम्मेदार हैं।  निर्दिष्ट अधिकारी आपको बाकी की प्रक्रिया पूरी करने के लिए मार्गदर्शन देगा।
  • Q6. एसबीआई में सुकन्या समृद्धि योजना खोलने की प्रक्रिया क्या है?

    उत्तर: भारतीय स्टेट बैंक लोगो को सबसे आसान और सबसे सरल तरीके से ऐसेस्वाय खाता खोलने में मदद करती है।
Written By: PolicyBazaar - Updated: 27 October 2021
top
Close
Download the Policybazaar app
to manage all your insurance needs.
INSTALL