जीवन बीमा सरेंडर मूल्य

क्या आपने कोई ऐसी बीमा योजना खरीदी है जो आपके आवश्यकता को पूरा नहीं कर रहा है?  क्या आपकी योजना की विशेषताएँ आपकी आवश्यकता को पूरा करने का वादा नहीं प्रदान कर रहा है जिस कारण आप अपनी योजना को बीच अवधि में ही छोड़ने की सोच रहे है? आप ज़रूर आपके पॉलिसी को बीमाकर्ता के पास समर्पण कर सकते है, लेकिन क्या आपको समय से पहले पॉलिसी समाप्त से जुड़ा समर्पण के मूल्य के बारे में पता है?

Read more
Get ₹1 Cr. Life Cover at just ₹411/month*
No medical checkup required
Save more with upto 10% discount
Covers COVID-19
Tax Benefit
Upto Rs. 46800
Life Cover Till Age
99 Years
8 Lakh+
Happy Customers

*Tax benefit is subject to changes in tax laws. *Standard T&C Apply

** Discount is offered by the insurance company as approved by IRDAI for the product under File & Use guidelines

Get ₹1 Cr. Life Cover at just ₹411/month*
No medical checkup required
Save more with upto 10% discount
Covers COVID-19
+91
View plans
Please wait. We Are Processing..
Get Updates on WhatsApp
By clicking on "View plans" you agree to our Privacy Policy and Terms of use

इससे पहले कि हम इन प्रश्नों का उत्तर यहाँ दें, चलिए पहले हम यह समझें कि समर्पण मूल्य का अर्थ आखिर क्या  हैl

समर्पण मूल्य

यदि कोई बीमाधारक योजना काल परिपक्व होने के पूर्व ही अपनी योजना को समर्पण करना चाहता है तो बीमा दस्तावेज़ में उल्लेखित नियमों के तहत वह ऐसा कर सकता है l ऐसी स्थिति में योजना कंपनी उस बीमाधारक को एक निर्धारित मूल्य लौटाती है l इस मूल्य को ही समर्पण मूल्य कहा जाता है l

यदि पॉलिसीधारक अवधि पूरा होने से पहले ही पॉलिसी को समर्पण करता है, तो उसे बचत और कमाई के लिए आवंटित की गई राशि का योग मिलेगा। परन्तु उसे जो राशि प्राप्त होता है वह उस समय तक बने असल राशि के  मूल्य से कुछ प्रतिशत कम होती है क्योंकि असल राशि पर एक समर्पण शुल्क दर लागू की जाती है l समर्पण शुल्क योजना अनुसार भिन्न होती है एवं इसका दर पहले से ही निर्धारित किया होता हैl यदि बीमाधारक योजना का समर्पण योजना शुरू होने के दिनांक के पांच वर्ष की अवधि के पश्चात करता है , तब आई.आर.डी.ए.आई  के निर्देशानुसार, जीवन बीमा कंपनियों को किसी प्रकार का समर्पण शुल्क लागू करने का नियम नहीं है। इस स्थिति में योजनाधारक को उस समय तक का संपूर्ण बढ़त निवेश राशि मूल्य प्राप्त होता है।  

समर्पण मूल्य के प्रकार 

समर्पण मूल्य मूल तौर पर दो प्रकार के होते है: गारंटी कृत समर्पण मूल्य और विशेष समर्पण मूल्य।

गारंटीकृत समर्पण मूल्य: गारंटीकृत समर्पण मूल्य विवरणिका में उल्लिखित रहते है और 3 वर्ष पूरे होने के बाद बीमाधारक को देय मिलता है। यह राशि बीमा प्रीमियम भुगतान का 30% होता है और इसमें प्रीमियम भुगतान का प्रथम वर्ष को छोड़ दिया जाता है। उपरांत, किसी राइडर या बोनस का भुगतान जो किसी समय आपको आपके बीमाकर्ता ने प्रदान किया होगा, वह राशि भी छोड़ दी जाती है।

विशेष समर्पण मूल्य = (मूल सुनिश्चित राशि * (भुगतान किए गए प्रीमियमों की संख्या/देय प्रीमियम की संख्या) + प्राप्त हुआ कुल बोनस) * समर्पण मूल्य करक

जब कोई एक निश्चित अवधि के बाद प्रीमियम का भुगतान करना बंद कर देता है, तो पॉलिसी जारी रहती है, लेकिन कम राशि के आश्वासन के साथ। इस सुनिश्चित राशि को पेड-अप वेल्यू कहा जाता है।

पेड-अप वेल्यू = मूल सुनिश्चित राशि * (भुगतान किए गए प्रीमियमों की संख्या/देय प्रीमियम की संख्या) 

चलिए, एक उदाहरण के साथ देखते है की कैसे पेड-अप वेल्यू की गणना की जाती है:

सोचिए, 20 साल की अवधि का एक पॉलिसी, जिसका सुनिश्चित राशि 6 लाख रुपये है, आप उस पॉलिसी में 30,000 रुपये का भुगतान प्रति वर्ष कर रहे है। अगर अब आप 4 साल बाद इस भुगतान को बंद कर दे तो, तो इस अवधि में जमे हुए राशि का मूल्य होता है 60,000 रुपये, और जब समर्पण मूल्य कारक चौथे वर्ष में 30% वर्ष में 30% होता है तो:

विशेष समर्पण मूल्य = (30/100) * (60,000 * (4/20) + 60,000) = 54,000 रुपये। 

जितना अधिक प्रीमियम का भुगतान होता है, उतना अधिक समर्पण मूल्य भी होता है। 

समर्पण मूल्य कारक पेड-अप वेल्यू के साथ बोनस के जोड़ का एक निर्दिष्ट प्रतिशत है। प्रथम 3 वर्षों में यह कारक 0 होता है और तीसरे वर्ष के बाद से यह बढ़ने लगता है। यह मूल्य हर एक बीमा कंपनी में भिन्न होता है, और विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है जैसे पॉलिसी के प्रकार, नीति की परिपक्वता का समय, निति के पुरे हो जाने वाले वर्ष, कंपनी के ग्राहक का दर्शन, उद्योग विशेष नीतियाँ और उनमें फंड प्रदर्शन। लेकिन कुछ कंपनियां अपने विवरणिका में समर्पण मूल्य के बारे में जानकारी नहीं देती 

हर एक पॉलिसी में समर्पण मूल्य हासिल नहीं होता है

सिर्फ उन पॉलिसी में समर्पण मूल्य हासिल होता है जिसमें  3 वर्षों से प्रीमियम भुगतान बीमाकर्ता को पूरी तरह से कर दिया जाता है। उपरांत हर एक पॉलिसी यह सुविधा प्रदान नहीं करती। यूलिप या एंडोमेंट पॉलिसी जैसी पॉलिसियां ​​जिनके पास बचत घटक है, केवल वे ही आंशिक रूप से जीवन कवर के लिए निवेश की गई राशि को वापस कर देती है। बिना किसी बचत तत्व के शुद्ध टर्म योजनाएं, दूसरी तरफ, समाप्त हो जाती है और उनसे जुड़े सभी लाभ भी नहीं मिल पाती।

प्रभावी ढंग से समर्पण मूल्य का उपयोग करना

जीवन बीमा पॉलिसियों के ऊपर लिए जाने वाले ऋण में समर्पण मूल्य के 80%-90% की सीमा तक का लाभ उठाया जा सकता है। इसलिए, आपकी पॉलिसी के समर्पण मूल्य का उपयोग उस ऋण राशि की गणना करने के लिए किया जाता है जिसके लिए आप पात्र होंगे। आपके पास पॉलिसी को बैंक में गिरवी रखने और उसके खिलाफ उधार लेने का विकल्प भी रहता है। हालाँकि, पॉलिसी के शुरुआती सालों में उधार न लेने की सलाह दी जाती है क्योंकि उससे आपको कम समर्पण मूल्य का राशि मिलता है।

समर्पण करें या न करें: प्रश्न वही है

पॉलिसी समर्पण करने पर बीमाधारक वह सभी लाभों को खो देता है जो उसे पॉलिसी चलते रहने पर मिलता। उपरांत, बीमा समर्पण करने पर वह पहले से भुगतान किए गए प्रीमियम की तुलना में बहुत कम राशि प्राप्त करता है। विशेष रूप से यूलिप में, बीमाकर्ता प्रारंभिक वर्षों में भुगतान किए गए प्रीमियम की एक बड़ी राशि खो देता है, जिसमें अधिकांश राशि एजेंट के कमीशन और अन्य शुल्कों में खर्च हो जाता है, और केवल शेष राशि निधि की ओर निर्देशित की जाती है। इसलिए, एक बंदोबस्ती नीति को समर्पण करना उचित है जिसमें प्राप्त किए गए धन को किसी अन्य उत्पाद में निवेश किया जा सकता है, जो मूल नीति की तुलना में अपने कार्यकाल के पूरा होने तक उच्च रिटर्न देता रहता है।

 

 

 

 

Written By: PolicyBazaar

Term insurance articles

Recent Articles
Popular Articles
Close
Download the Policybazaar app
to manage all your insurance needs.
INSTALL